मुखपृष्ठ > शुआंगकिआओ जिला
राशिफल 20 अप्रैल 2021: वृष राशि वालों पर आज मेहरबान रहेगी किस्मत, जानिए अन्य का हाल
रिलीज़ की तारीख:2022-10-08 03:37:46
विचारों:779

राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालमहंगाई का तगड़ा झटका झेलने को हो जाइये तैयार, खाने-पीने के सामान से लेकर पेट्रोल-डीजल बिगाड़ेंगे बजट******petrolHighlights रूस-यूक्रेन के बीच 12वें दिन युद्ध जारी रहने से अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चा तेल (ब्रेंट क्रूड) सोमवार को 130 डॉलर प्रति बैरल के पार पहुंच गया है। यह कच्चे तेल का 13 साल (2008 के बाद) का उच्चतम स्तर है। वहीं, पांच राज्योंं में चुनाव के चलते 4 नवंबर 2021 के बाद ईंधन के कीमतों में बढ़ोतरी नहीं की गई है, लेकिन तब से अब तक क्रूड 81 डॉलर से बढ़कर 130 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गया है। यानी क्रूड में करीब 50 डॉलर प्रति बैरल की बढ़ोतरी हो चुकी है। साफ है पेट्रोल-डीजल के दाम में राहत का दौर खत्म हो गया है। कभी भी बढ़ोतरी का ऐलान आज के बाद हो सकता है क्योंकि चुनाव खत्म हो रहे हैं। जानकारों का कहना है कि क्रूड में लगी आग से सिर्फ ईंधन के दाम ही नहीं बल्कि खाने-पीने के सामान के दाम भी बढ़ेंगे। आइए, समझते हैं कि कैसे क्रूड में लगी आग बिगाड़ेगी आपके घर का बजट।पांच राज्यों में चुनाव के चलते देश में 4 नवंबर 2021 के बाद से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बदलाव नहीं हुआ है। वहीं, ब्रेंट क्रूड इस दौरान 81 डॉलर प्रति बैरल से बढ़कर 130 डॉलर के पार पहुंच गया है। केडिया कमोडिटीज के डायरेक्‍टर अजय केडिया ने इंडिया टीवी को बताया कि आने वाले दिन में क्रूड के दाम 150 डॉलर प्रति बैरल के पार पहुंच सकता है। ऐसे में भारत के पास पेट्रोल-डीजल में बढ़ोतरी के अलावा कोई चारा नहीं है। चुनाव के बाद पेट्रोल के भाव देश में 130 से लेकर 150 रुपये प्रति लीटर तक पहुंच सकता है। डीजल के दाम में भी बड़ी बढ़ोतरी देखने को मिलेगी। क्रूड महंगा होने से पेट्रोल-डीजल ही नहीं बल्कि रसोई गैस और तमाम इससे जुड़े उत्पाद महंगे होंगे।कच्चे तेल में उछाल से सिर्फ पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस ही महंगा नहीं होगा बल्कि सभी जरूरी सामान के दाम में इजाफा होगा। ऐसा इसलिए होगा क्योंकि कच्चे तेल में उछाल से डीजल महंगा होगा। डीजल महंगा होने पर ट्रांसपोर्ट कंपनियां माल ढुलाई बढ़ाएंगी। इससे फल-सब्जी सहित ज्यादातर जरूरी सामान की कीमतें बढ़ेंगी। दिसंबर में रिटेल इन्फ्लेशन बढ़कर 5.59 फीसदी पर पहुंच गया। यह और बढ़ जाएगा। एक रिपोर्ट के मुताबिक, कच्चे तेल में 10 प्रतिशत की वृद्धि से WPI (थोक मूल्य सूचकांक) में 0.9 प्रतिशत से 1.0 प्रतिशत की बढ़ोतरी और CPI (उपभोक्ता मूल्य सूचकांक) में 0.4 प्रतिशत से लेकर 0.6 प्रतिशत की बढ़ोतरी होती है।क्रूड महंगा होने से देश में महंगाई बढ़ेगी। इससे रोकने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ब्याज दरों में बढ़ोतरी करेगा। इससे आने वाले दिन में बैंक भी लोन पर ब्याज दरों में बढ़ोतरी करेंगे जिससे आपको अधिक ईएमाआई चुकानी पड़ सकती है। यानी, क्रूड महंगा होने से बढ़ी महंगाई के साथ ईएमआई भी आपके घर का बजट बिगाड़ेगी।

राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालकोरोना महामारी बनी इस शख्स के लिए वरदान, कुछ घंटे में ही कमा लिए 29 हजार करोड़ रुपये******zoom stock surgeनई दिल्ली। कोरोना महामारी ने एक तरफ दुनिया भर की आर्थिक गतिविधियों को करीब करीब ठप कर दिया है, हालांकि दूसरी तरफ इसकी ही वजह से दुनिया के टेक सेक्टर के दिग्गज लगातार अपनी दौलत में इजाफा कर रहे हैं। इसी कड़ी में एक और नाम जुड़ गया है, वर्चुअल मीटिंग की सुविधा देने वाली कंपनी Zoom के सीईओ एरिक यूआन का। कोरोना वायरस की वजह से जारी प्रतिबंधों के बाद कंपनी के मुनाफे में जून तिमाही में आए उछाल से एरिक की दौलत सिर्फ कुछ घंटे के दौरान 400 करोड़ डॉलर बढ़ गई जो कि भारतीय रकम में 29 हजार करोड़ रुपये के बराबर है। एरिक की दौलत में ये बढ़त तिमाही नतीजों के बाद कंपनी के शेयर में आए उछाल की वजह से देखने को मिली है। सोमवार को ही कंपनी ने ऐलान किया था कि उसकी बिक्री तिमाही के दौरान 355 फीसदी बढ़कर 63 करोड़ डॉलर के स्तर पर पहुंच गई है। वहीं कंपनी ने अनुमान दिया है कि उसकी आय साल भर में 239 करोड़ रुपये के स्तर पर पहुंच सकती है। खबर के बाद कंपनी के शेयरों में तेजी देखने को मिली। और स्टॉक करीब 26 फीसदी बढ़कर 410 डॉलर के स्तर पर पहुंच गया। इस तेजी के मदद से कैलीफोर्निया स्थित कंपनी के फाउंडर और सीईओ एरिक की दौलत 4 अरब डॉलर बढ़ी है। वहीं इस साल अब तक जूम के सीईओ की कुल दौलत 12.8 अरब डॉलर बढ़ चुकी है।कोरोना वायरस की वजह से जारी प्रतिबंधों के बाद टेक सेक्टर की कंपनियों की आय में तेज उछाल देखने को मिला है। खास तौर से ऐसी कंपनियों की बिक्री में उछाल आय़ा है जो सोशल डिस्टेंसिंग के साथ कारोबार की जरूरतों को पूरा करने के हल पेश कर रही हैं।राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालदिल्‍ली में नहीं चलेंगे 10 साल पुराने डीजल वाहन, NGT ने दिया रजिस्‍ट्रेशन कैंसिल करने का आदेश****** दिल्‍ली एनसीआर में अब 10 साल पुरानी डीजल गाडि़यां बंद होंगी। नेशनल ग्रीन ट्रीब्यूनल(NGT ) ने एक अहम फैसला सुनाते हुए 10 साल पुराने डीजल वाहनों का रजिस्‍ट्रेशन रद्द करने यानि कि डी-रजिस्ट्रेशन का आदेश दिया है। इस सीधा मतलब है कि सड़कों से 10 साल से अधिक पुराने डीज़ल वाहन हटेंगे। NGT के आदेश के दायरे में कमर्शियल वाहनों के साथ-साथ पैसेंजर वाहन भी शामिल हैं। यह फैसला तुरंत लागू होगा।पेट्रोल कार की तरफ बढ़ा खरीदारों का रूझान, डीजल कारों पर अदालतों के कड़े रुख का असरNGT ने आरटीओ को निर्देश दिया है कि जिन गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन किया जा रहा है उनकी लिस्ट पुलिस को सौंपी जाए, ताकि अगर रजिस्ट्रेशन रद्द होने के बाद गाड़ियां सड़कों पर चलें तो उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जा सके। एनजीटी ने यह भी पूछा है कि जब डीजल वाहन, पेट्रोल वाहन की तुलना में महंगे हैं तो आखिर इनपर रोक लगाने में परेशानी क्या है ? गौरतलब है कि डीजल वाहनों पर पहले से ही तलवार लटक रही थी। दिल्ली में प्रदूषण को लेकर काफी चिंता जताई जा चुकी है।Delhi-NCR में डीजल गाड़ियों पर प्रतिबंध से करीब 5,000 रोजगार भावित, कंपनियों को भारी नुकसानइसके साथ ही दिल्ली में स्कूल और हॉस्पिटल्स को ‘नो हांकिंग जोन’ के रूप में चिह्नित किया गया या नहीं इस पर भी NGT ने जवाब मांगा है। एनजीटी ने इसी के साथ आदेश दिया है कि वाहनों में बाहर से कोई हॉर्न नहीं लगाए जाएंगे। दो पहिया वाहन पर भी यह नियम लागू होगा। एनजीटी के इन सख्त निर्देशों के बाद अब ट्रैफिक पुलिस की जिम्मेदारी बढ़ गई है।

राशिफल 20 अप्रैल 2021: वृष राशि वालों पर आज मेहरबान रहेगी किस्मत, जानिए अन्य का हाल

राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालजून में दो अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों में हिस्सा लेंगे मोदी, जी-20 शिखर सम्मेलन में ट्रंप से करेंगे मुलाकात, व्यापार को लेकर चर्चा संभव******modi and trump अमेरिका के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगले महीने जापान में में मिलने के लिए सहमत हुए हैं। जापान के ओसाका में आगामी 28 और 29 जून को जी-20 शिखर सम्मेलन होने जा रहा है। बताया जा रहा है कि इस दौरान नरेंद्र मोदी दूसरी बार प्रधानमंत्री के तौर पर यहां पहुंचेंगे और दुनिया के अन्य राष्ट्राध्यक्षों से मुलाकात करेंगे। दोनों नेताओं ने अमेरिका-भारत रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करने और पिछले दो साल की उपलब्धियों पर और अधिक काम करने का इरादा जाहिर किया है। बताया जा रहा है कि दोनों देशों के बीच भविष्य में होने वाले व्यापार के साथ-साथ चीन के (South China Sea) में दखल को लेकर भी चर्चा हो सकती है। ने एक बयान में कहा कि ट्रंप ने लोकसभा चुनावों में ऐतिहासिक जीत हासिल करने के लिए मोदी को फोन कर बधाई दी। व्हाइट हाउस ने कहा कि (दोनों) नेता ओसाका में जी-20 शिखर सम्मेलन में एक-दूसरे से मुलाकात की उम्मीद कर रहे हैं। वहां अमेरिका, भारत और जापान एक मुक्त एवं खुले भारत-प्रशांत क्षेत्र के लिए अपनी साझा दृष्टि पर काम के लिए एक त्रिपक्षीय बैठक करेंगे। उल्लेखनीय है कि चीन दक्षिण चीन सागर पर अपना दबदबा दिखाने की कोशिश करता है। इस प्रमुख व्यापारिक मार्ग पर नियंत्रण को लेकर के बीच तकरार चल रही है।बाद में जापान की यात्रा पर जाने से पहले व्हाइट हाउस के साउथ लॉन में पत्रकारों से बातचीत में ट्रंप ने कहा कि मैंने अभी-अभी से बात की और मैंने उन्हें ढेर सारी शुभकामनाएं दी। ट्रंप ने कहा कि मैंने अपने देश की ओर से, अपनी ओर से और हर व्यक्ति की ओर से बधाई दी। उन्होंने चुनावों में शानदार जीत दर्ज की। वह मेरे दोस्त हैं। भारत से हमारे बहुत अच्छे संबंध हैं।राष्ट्रपति ट्रंप ने बाद में एक ट्वीट भी किया और मोदी को 'महान व्यक्ति एवं भारत के लोगों का नेता' कह कर उनकी तारीफ की। ट्रंप ने कहा कि अभी-अभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की, जिसमें मैंने उनकी भव्य राजनीतिक जीत पर उन्हें बधाई दी। वह महान व्यक्ति और भारत के लोगों के नेता हैं, वे लोग सौभाग्यशाली हैं कि उनके पास वह (मोदी) हैं।इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति ने गुरुवार को कहा था कि मोदी की दूसरी पारी के तहत भारत-अमेरिका रणनीतिक संबंधों के लिए काफी चीजें हैं। इसके जवाब में मोदी ने कहा कि करीबी द्विपक्षीय संबंधों के लिए आपके साथ करीबी रूप से काम करने की मैं भी आशा करता हूं। मोदी ने शुक्रवार को ट्वीट कर अमेरिका के उप राष्ट्रपति माइक पेंस का भी शुक्रिया अदा किया, जिन्होंने उन्हें बधाई देते हुए कहा था कि वह भारत के साथ काम करने की आशा करते हैं।दरअसल, जून में शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (SCO) की बैठक और G-20 सम्मेलन होने जा रहे हैं। इन दोनों सम्मेलनों में पीएम मोदी शिरकत करेंगे। जानकारी के मुताबिक, पीएम मोदी पहले 13 जून को किर्गिस्तान जाएंगे। यहां पर वे (SCO) की बैठक में हिस्सा लेंगे। यहां मोदी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से मुलाकात कर सकते हैं।गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान के बीच किसी भी प्रकार का संवाद हुए करीब चार साल का समय हो गया है। इस दौरान मोदी की मुलाकात चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से भी होगी। बता दें कि, इससे पहले मई माह में ही विदेश मंत्री ने विदेश मंत्रियों की एससीओ बैठक में हिस्सा लिया था जहां पर उनकी मुलाकात पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी से हुई थी। यहां पर दोनों ही नेताओं ने सिर्फ एक दूसरे को औपचारिक तौर पर अभिवादन किया था लेकिन इससे ज्यादा कोई बातचीत नहीं हुई थी।राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालअमेरिका ने दी रूस को कड़ी चेतावनी- यूक्रेन दाखिल होने की कोशिश की तो भुगतने होंगे गंभीर परिणाम******अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने मंगलवार को रूस को चेताया कि अगर उसने यूक्रेन में दाखिल होने की कोशिश की तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, ‘मैंने राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि रूस अगर यूक्रेन में प्रवेश करने का फैसला लेता है तो उसे बेहद गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे, जिनमें कड़े आर्थिक प्रतिबंध भी शामिल हैं। यही नहीं, मैं पूर्वी क्षेत्र (पोलैंड, रोमानिया आदि) में अमेरिकी सेना और नाटो की मौजूदगी बढ़ाने में भी गुरेज नहीं करूंगा।’मंगलवार सुबह बाइडन ने अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा टीम के साथ बैठक की थी। उन्होंने कहा, ‘रूसी बलों की तैनाती में कोई बदलाव नहीं हुआ है। बेलारूस की पूरी सीमा पर रूसी सैनिक मौजूद हैं।’ बाइडन ने स्पष्ट किया कि अमेरिका की यूक्रेन में अपने सैनिकों या नाटो बलों को भेजने की कोई योजना नहीं है। उन्होंने जोर देकर कहा, ‘लेकिन मैं पहले ही कह चुका हूं कि अगर रूसी सेना यूक्रेन में दाखिल होती है तो इसके गंभीर आर्थिक परिणाम होंगे।’व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने संवाददाताओं को बताया कि सीमा पर एक लाख रूसी सैनिक मौजूद हैं, जो युद्ध भड़काने वाली बयानबाजी और कार्रवाई के जरिये दुनियाभर में दुष्प्रचार फैलाने की कोशिश कर रहे हैं, ताकि यूक्रेन पर हमले की पृष्ठभूमि तैयार हो सके। साकी ने कहा, ‘हम कूटनीतिक प्रयासों को प्राथमिकता देंगे, लेकिन हम नहीं जानते कि राष्ट्रपति पुतिन के दिमाग में क्या चल रहा है। हमने सीमा पर आक्रामक कार्रवाई और तैयारियां देखी हैं।’साकी ने क्षेत्र में तनाव घटाने की किसी भी कोशिश का स्वागत किया। उन्होंने कहा, ‘हम यूक्रेन संकट को लेकर अपने कई सहयोगियों और साझेदारों के संपर्क में हैं। हालांकि, मेरे पास भारतीय अधिकारियों से चर्चा पर स्पष्ट रूप से बताने के लिए कुछ भी नहीं है। हम क्षेत्र में तनाव घटाने की हर कोशिश का स्वागत करते हैं।’राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालDelhi News: दिल्ली में फेल हुआ 'ऑपरेशन लोटस', विधानसभा में केजरीवाल ने पेश किया कॉन्फिडेंस मोशन******Highlightsमुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को दिल्ली विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पेश किया और कहा कि प्रस्ताव यह साबित करने के लिए था कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का ‘ऑपरेशन कमल’ भले ही अन्य राज्यों में सफल रहा हो, लेकिन यहां फेल रहा क्योंकि आप के सभी विधायक “कट्टर ईमानदार” हैं। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी (AAP) के एक भी विधायक को भाजपा तोड़ नहीं सकी। उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि भाजपा अगले 15 दिनों में झारखंड सरकार को गिराने की कोशिश करेगी। मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि मौजूदा केंद्र सरकार ‘‘सर्वाधिक भ्रष्ट’’ है क्योंकि वह आम आदमी पर टैक्स लगाकर “विधायक खरीदती” है, जबकि अपने अरबपति दोस्तों का कर्ज माफ करती है।इस दौरान उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना द्वारा खादी और ग्रामोद्योग आयोग के अध्यक्ष रहते हुए 1400 करोड़ रुपये के पुराने नोटों को बदलने के लिए अपने कर्मचारियों पर दबाव डालने के आरोपों को लेकर जमकर हंगामा हुआ। जिसके बाद सदन की कार्यवाही को बाद में दिनभर के लिए स्थगित कर दिया गया। इससे पहले भाजपा को एक भी ‘AAP’ विधायक को खरीदने की चुनौती देते हुए केजरीवाल ने कहा, “विश्वास प्रस्ताव यह दिखाने के लिये है कि ‘ऑपरेशन कमल’ मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और अन्य राज्यों में सफल हो सकता है, लेकिन दिल्ली में यह फेल रहा। विश्वास मत यह दिखाने के लिये भी है कि AAP के सभी विधायक कट्टर ईमानदार हैं।”केजरीवाल ने आरोप लगाया कि भाजपा ने मणिपुर, बिहार, असम, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र में सरकार गिराईं और कुछ जगह पर उन्होंने 50 करोड़ रुपये भी दिए। केजरीवाल ने कहा, “आप कहते हैं कि आप भ्रष्टाचार के खिलाफ हैं, लेकिन आप लोग विधायक खरीदते हैं। यह सबसे भ्रष्ट (केंद्र) सरकार है। आपको गरीब लोगों की हाय लगेगी। केजरीवाल ने आगे दावा कि वे (भाजपा) 15 दिन के भीतर झारखंड सरकार को गिराने की कोशिश करेंगे और फिर पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ेंगे।” उन्होंने कहा कि अगली बार जब ईंधन के दाम बढ़ेंगे तो लोग समझ जाएंगे कि रकम कहां जा रही है।दिल्ली में 70 सदस्यीय विधानसभा में आप के 62 विधायक हैं जबकि भाजपा के आठ विधायक हैं। केजरीवाल ने मूल्य वृद्धि के लिये केंद्र को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि ऐसा केंद्र सरकार द्वारा थोपे गए उच्च करों के कारण है। केजरीवाल ने आरोप लगाया, “यहां तक की दही, लस्सी, गेहूं और शहद पर भी टैक्स लगाया गया है। यह कुछ ऐसा है जो पिछले 75 सालों में नहीं हुआ, ब्रिटिश शासन के दौरान भी नहीं। वे इस धन का इस्तेमाल अपने अरबपति मित्रों का कर्ज माफ करने के लिए कर रहे हैं।” उन्होंने कहा कि अगर केंद्र अपने अरबपति दोस्तों के माफ किए गए कर्ज को वसूलता है तो मूल्य वृद्धि की समस्या सुलझ सकती है।दिल्ली के सरकारी स्कूलों में कक्षाओं और शौचालयों के निर्माण पर केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) की रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए केजरीवाल ने कहा कि भाजपा अब कह रही है कि आप सरकार ने ज्यादा शौचालय बनाए हैं। उन्होंने कहा, “हां, हमने सरकारी स्कूलों में हमारी बेटियों के लिये ज्यादा शौचालय बनवाए हैं। हमने क्या गलत किया है? उन्हें (सीबीआई) छापे में कुछ नहीं मिला फिर भी वे उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को गिरफ्तार करेंगे। अब आबकारी मामला खत्म हो गया इसलिए कक्षाओं पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है।”दिल्ली सरकार के सतर्कता विभाग को शहर के सरकारी स्कूलों में अतिरिक्त कक्षाओं के निर्माण में आगे की जांच और कार्रवाई के लिए टिप्पणी मांगने के लिए 2020 में भेजी गई सीवीसी रिपोर्ट का हवाला देते हुए भाजपा ने इससे पहले दिन में आरोप लगाया कि आप सरकार ने बिना निविदा जारी किए निर्माण लागत को 326 करोड़ रूपये बढ़ा दिया जो मूल निविदा की रकम से 53 प्रतिशत ज्यादा है।

राशिफल 20 अप्रैल 2021: वृष राशि वालों पर आज मेहरबान रहेगी किस्मत, जानिए अन्य का हाल

राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालमहंगाई का तगड़ा झटका झेलने को हो जाइये तैयार, खाने-पीने के सामान से लेकर पेट्रोल-डीजल बिगाड़ेंगे बजट******petrolHighlights रूस-यूक्रेन के बीच 12वें दिन युद्ध जारी रहने से अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चा तेल (ब्रेंट क्रूड) सोमवार को 130 डॉलर प्रति बैरल के पार पहुंच गया है। यह कच्चे तेल का 13 साल (2008 के बाद) का उच्चतम स्तर है। वहीं, पांच राज्योंं में चुनाव के चलते 4 नवंबर 2021 के बाद ईंधन के कीमतों में बढ़ोतरी नहीं की गई है, लेकिन तब से अब तक क्रूड 81 डॉलर से बढ़कर 130 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गया है। यानी क्रूड में करीब 50 डॉलर प्रति बैरल की बढ़ोतरी हो चुकी है। साफ है पेट्रोल-डीजल के दाम में राहत का दौर खत्म हो गया है। कभी भी बढ़ोतरी का ऐलान आज के बाद हो सकता है क्योंकि चुनाव खत्म हो रहे हैं। जानकारों का कहना है कि क्रूड में लगी आग से सिर्फ ईंधन के दाम ही नहीं बल्कि खाने-पीने के सामान के दाम भी बढ़ेंगे। आइए, समझते हैं कि कैसे क्रूड में लगी आग बिगाड़ेगी आपके घर का बजट।पांच राज्यों में चुनाव के चलते देश में 4 नवंबर 2021 के बाद से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बदलाव नहीं हुआ है। वहीं, ब्रेंट क्रूड इस दौरान 81 डॉलर प्रति बैरल से बढ़कर 130 डॉलर के पार पहुंच गया है। केडिया कमोडिटीज के डायरेक्‍टर अजय केडिया ने इंडिया टीवी को बताया कि आने वाले दिन में क्रूड के दाम 150 डॉलर प्रति बैरल के पार पहुंच सकता है। ऐसे में भारत के पास पेट्रोल-डीजल में बढ़ोतरी के अलावा कोई चारा नहीं है। चुनाव के बाद पेट्रोल के भाव देश में 130 से लेकर 150 रुपये प्रति लीटर तक पहुंच सकता है। डीजल के दाम में भी बड़ी बढ़ोतरी देखने को मिलेगी। क्रूड महंगा होने से पेट्रोल-डीजल ही नहीं बल्कि रसोई गैस और तमाम इससे जुड़े उत्पाद महंगे होंगे।कच्चे तेल में उछाल से सिर्फ पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस ही महंगा नहीं होगा बल्कि सभी जरूरी सामान के दाम में इजाफा होगा। ऐसा इसलिए होगा क्योंकि कच्चे तेल में उछाल से डीजल महंगा होगा। डीजल महंगा होने पर ट्रांसपोर्ट कंपनियां माल ढुलाई बढ़ाएंगी। इससे फल-सब्जी सहित ज्यादातर जरूरी सामान की कीमतें बढ़ेंगी। दिसंबर में रिटेल इन्फ्लेशन बढ़कर 5.59 फीसदी पर पहुंच गया। यह और बढ़ जाएगा। एक रिपोर्ट के मुताबिक, कच्चे तेल में 10 प्रतिशत की वृद्धि से WPI (थोक मूल्य सूचकांक) में 0.9 प्रतिशत से 1.0 प्रतिशत की बढ़ोतरी और CPI (उपभोक्ता मूल्य सूचकांक) में 0.4 प्रतिशत से लेकर 0.6 प्रतिशत की बढ़ोतरी होती है।क्रूड महंगा होने से देश में महंगाई बढ़ेगी। इससे रोकने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ब्याज दरों में बढ़ोतरी करेगा। इससे आने वाले दिन में बैंक भी लोन पर ब्याज दरों में बढ़ोतरी करेंगे जिससे आपको अधिक ईएमाआई चुकानी पड़ सकती है। यानी, क्रूड महंगा होने से बढ़ी महंगाई के साथ ईएमआई भी आपके घर का बजट बिगाड़ेगी।राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालहीट वेव से बचने के लिए करें मौसमी फलों का सेवन, शरीर में कम न होने दें पानी की मात्रा****** बिहार में लगातार बदल रहा मौसम लोगों को बीमार कर सकता है। यहां शुक्रवार को हवा के रुख में परिवर्तन देखा गया। वहीं शनिवार की सुबह तक बारिश का माहौल बना रहा लेकिन अचनाक से मौसम में गर्मी आ गई। मौसम विभाग के अनुसार आने वाले 5 दिनों तक हीट वेव का खतरा रहने वाला है। ऐसे में डॉक्टर भी लोगों को सतर्क रहने की सलाह दे रहे हैं, क्योंकि ऐसे मौसम में शरीर में पानी की मात्रा कम होते ही बड़ा खतरा हो सकता है।मौसम विभाग के अनुसार राज्य के पूर्वी भागों में 24 घंटे के दौरान बारिश का माहौल रहा, जबकि अन्य इलाकों में उमस भरी गर्मी रही। बाल्मिकी नगर में सबसे कम न्यूनतम तापमान 22.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जबकि डेहरी में अधिकतम तापमान 42.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक एक बार फिर से बिहार में 'हीट वेव' बनने का पूर्वानुमान है। राज्य के साउथ बिहार में इसका असर देखने को मिल सकता है। हवा कल तक पूर्वी थी लेकिन अब वह पश्चिमी हो रही है। इससे गर्मी और ज्यादा बढ़ेगी। डॉक्टरों के मुताबिक ऐसे मौसम में लोगों को पानी का सेवन ज्यादा करना चाहिए। मौसमी फलों का सेवन ज्यादा से ज्यादा करें। पानी का खजाना तरबूज, ग्रीष्म ऋतु का अद्वितीय फल खरबूजा, खीरा-ककड़ी, नींबू पानी, छाछ इस मौसम से लड़ने के लिए मजबूत हथियार साबित हो सकते हैं।

राशिफल 20 अप्रैल 2021: वृष राशि वालों पर आज मेहरबान रहेगी किस्मत, जानिए अन्य का हाल

राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालनागिन 5: सुरभि ज्योति-मौनी रॉय के अलावा करण पटेल भी करेंगे सुपरनैचुरल शो में कैमियो, 26 जून से शुरू होगी शूटिंग******एकता कपूर के सुपरनैचुरल शो नागिन 5की शूटिंग जल्द शुरू होने वाली है। इस बार शो में हिना खान और सुरभि चांदना लीड रोल में होंगी। इन दोनों के अलावा एक्स नागिनमौनी रॉय और सुरभि ज्योति भी शो में कैमियो करेंगी। अब नागिन 5 की कास्ट में एक नया नाम जुड़गया है और वो है ये है मोहब्बतें के रमन भल्ला यानी कि करण पटेल का। करण इस शो में कैमियो करते नजर आएंगे।एकता कपूर नागिन सीरियल को लेकर काफी एक्टिव रहती हैं और वो इस शो को खुद लीड करती हैं, ऐसे में वो शो को सुपरहिट बनाने के सारे फॉर्मूले आजमाती हैं, स्टार कास्ट से लेकर शो की कहानी तक सब एकता के वॉच करती हैं। खबर है कि मेल लीड के लिए बेहद-2 के एक्टर शिविन नांरग और बिग बॉस-13 से मशहूर हुए पारस छाबड़ा को अप्रोच किया गया है।लॉकडाउन हटने के बाद अब टीवी और फिल्मों को शूटिंग की इजाजत भी मिल गई है, ऐसे में खबर सामने आई है कि एकता कपूर का शो नागिन 5 की शूटिंग 26 जून से शुरू हो जाएगी।कोरोना वायरसकी वजह से स्टार शूटिंग करने में घबरा रहे हैं ऐसे में एकता कपूर अपने सीरियल्स के सेट पर कड़ी सुरक्षा कर रही हैं। चाहे वो नागिन 5 हो या फिर कसौटी जिंदगी की 2। एकता अभी पुख्ता प्लानिंग कर रही हैं, सेफ्टी प्लानिंग पूरी होने के बाद शो की शूटिंग शुरू होगी।

राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालAamir Khan की फ़िल्म विरोध के बाद भी कर रही कमाल, तेज हुई एडवांस बुकिंग की रफ़्तार******Highlightsआमिर खान की फिल्म 'लाल सिंह चड्ढा' इस समय काफी विवाद में है। वहीं कई लोग इस फिल्म का विरोध भी कर रहे है, लेकिन इन सब के बीच 'लाल सिंह चड्ढा' की एडवांस बुकिंग के आंकड़े सामने आने लगे हैं, जो बता रहे हैं कि फिल्म बॉक्स ऑफिस पर धूम मचाने वाली है।बता दें फिल्म 11 अगस्त को रिलीज हो रही है। इस फिल्म के लिए करीना कपूर और आमिर कड़ी मेहनत से इसका प्रमोशन भी कर रहे हैं। 11 अगस्त को 'लाल सिंह चड्ढा' के साथ-साथ अक्षया कुमार की फिल्म 'रक्षाबंधन' भी रिलीज हो रही है। दोनों ही फिल्मों की एडवांस बुकिंग भी शुरू हो चुकी है। बॉक्स ऑफिस इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार 'लाल सिंह चड्ढा' के लिए अभी तक करीब 8 करोड़ रुपये की एडवांस बुकिंग हो चुकी है।वहीं बात करें फिल्म की तो 'रक्षाबंधन' की तो इस फिल्म के लिए अब तक लगभग 3 करोड़ रुपये की ही एडवांस बुकिंग हुई है।लाल सिंह चड्ढा में आमिर खान सरदार बने हैं और करीना उनकी सरदारनी। साउथ स्टार नागा चैतन्य भी 'लाल सिंह चड्ढा' से अपना बॉलीवुड डेब्यू करने जा रहे हैं। वहीं फिल्म रक्षा बंधन में अक्षय कुमार के अपोजिट भूमि पेडनेकर लीड रोल में हैं। वहीं, अक्षय कुमार की बहन का किरदार शिकारा फिल्म की एक्ट्रेस सादिया खतीब, सहजमीन कौर, दीपिका खन्ना और स्मृति श्रीकांत निभा रही हैं।'लाल सिंह चड्ढा' रिलीज होने से पहले विवादों में घिरी हुई है। कुछ दिनों पहले सोशल मीडिया पर #BoycottLaalSinghChaddha ट्रेंड कर रहा था। आमिर खान की फिल्म लाल सिंह चड्ढा 11 अगस्त को रिलीज होने वाली है। वहीं दर्शकों के इस बॉयकॉट वाले रिऐक्शन से आमिर खान काफी दुखी थे। लोगों के प्रतिक्रियां के बाद आमिर खान ने लोगों से रिक्वेस्ट की थी कि उनकी फिल्म का बॉयकॉट न करें।राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालरिंगिंग बेल्स का दावा, 65,000 और स्मार्टफोन की डिलीवरी शुरू****** मोबाइल हैंडसेट कंपनी रिंगिंग बेल्स ने दावा किया कि उसने 65,000 और हैंडसेट की आपूर्ति शुरू कर दी है। कंपनी का हैंडसेट दुनिया का सबसे सस्ता स्मार्टफोन है जिसकी कीमत मात्र 251 रुपए है। एक पखवाड़े पहले कंपनी ने दावा किया कि उसने फ्रीडम 251 की 5,000 इकाइयों की डिलीवरी शुरू कर दी है।कंपनी ने एक बयान में कहा, रिंगिंग बेल्स 65,000 इकाइयों की और आपूर्ति के साथ ग्राहकों से किये गये दो लाख स्मार्टफोन की डिलीवरी करने का वादा पूरा करने को तैयार है। बयान के अनुसार फोन की डिलीवरी पूरी तरह नकद आधार पर की जा रही है। यानी ग्राहक को स्मार्टफोन मिलने के बाद ही वह पैसा देंगे। स्मार्टफोन की डिलीवरी पश्चिम बंगाल, हरियाणा, हिमाचल, बिहार, उत्तराखंड, नई दिल्ली, पंजाब, जम्मू कश्मीर, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, झारखंड, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में की गयी है। बयान के अनुसार, 65,000 इकाइयों की डिलीवरी के साथ फ्रीडम 251 की संख्या 70,000 इकाई हो जाएगी।smartphone at 251चीन की प्रौद्योगिकी कंपनी लेनोवो ने वाइब के नोट्स श्रृंखला का पांचवां सस्करण पेश किया। इसकी कीमत 11,999 रुपए से शुरू है। लेनोवो इंडिया के कार्यकारी निदेशक (मोबाइल कारोबार समूह) सुधीन माथुर ने कहा, हमारा के श्रृंखला पिछले साल हिट रहा। 30 लाख से अधिक ग्राहक इसका उपयोग कर रहे हैं। इस नये संस्करण से ग्राहकों को और बेहतर मनोरंजक अनुभव मिलेगा। उन्होंने कहा कि लेनोवो की के श्रृंखला का भारत में स्मार्टफोन की उसकी कुल बिक्री में एक तिहाई का योगदान है। Delivery Started: रिंगिंग बेल्स ने शुरू की फ्रीडम 251 स्‍मार्टफोन की डिलीवरी, ग्राहकों को चुकाने होंगे 291 रुपए

राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालरिलीज से पहले विवादों में 'गंगूबाई काठियावाड़ी', भंसाली के खिलाफ शुरू हुआ विरोध प्रदर्शन******Highlightsसंजय लीला भंसाली और आलिया भट्ट की फ़िल्म 'गंगूबाई काठियावाड़ी' के खिलाफ कमाठीपुरा के आज स्थानीय लोगों ने हाथों में बैनर-पोस्टर लेकर नारेबाजी और विरोध प्रदर्शन किया। लोगों का आरोप है कि जिस तरह से कमाठीपुरा को फ़िल्म में दिखाया गया है वह गलत है।लोगों का आरोप है कि कमाठीपुरा में 42 गलियां हैं जिनमे करीब 30 हज़ार लोग रहते हैं। जबकि, सिर्फ तीन गलियों में ही सेक्स वर्कर रहते हैं। लोगों का कहना है कि कमाठीपुरा से उनका 250 साल पुराना रिश्ता है। यहां कई इंजीनियर, पायलट, डॉक्टर रहते हैं, लेकिन फिल्म की वजह से उनकी बदनामी हो रही है।स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि कमाठीपुरा के नाम से बच्चों को नौकरियां नहीं मिलती। इंटरव्यू में भी उनके बच्चों को भी बुरा-भला सुनना पड़ता है। विरोध कर रहे लोगों की मांग थी कि 'गंगूबाई काठियावाड़ी' फ़िल्म पर रोक लगाई जाए।राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालप्राकृतिक आपदाओं ने भारत को हुई भारी आर्थिक क्षति, 20 साल में गंवाए 79.5 अरब डॉलर******natural disastersजलवायु परिवर्तन के चलते पिछले 20 साल में आई से भारत को 79.5 अरब डॉलर का आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा है। संयुक्त राष्ट्र ने अपनी एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी है। ‘आर्थिक नुकसान, गरीबी और आपदा : 1998-2017’’ शीर्षक वाली इस रिपोर्ट में जलवायु परिवर्तन से होने वाले महत्वपूर्ण बदलाव या मौसमी घटनाओं के वैश्विक अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभाव का आकलन किया गया है। इसे संयुक्त राष्ट्र के आपदा जोखिम में कमी लाने के लिए काम करने वाले विभाग ने तैयार किया है। ()रिपोर्ट में कहा गया है कि 1998 से 2017 के बीच जलवायु परिवर्तन के चलते आने वाली प्राकृतिक आपदाओं से सीधे होने वाले आर्थिक नुकसान में 151 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। इस दौरान वैश्विक अर्थव्यवस्था को 2,908 अरब डॉलर का सीधा नुकसान हुआ है। यह उससे पिछले दो दशकों में हुए नुकसान के मुकाबले दोगुना अधिक है।बुधवार को जारी इस रिपोर्ट में कहा गया है जलवायु परिवर्तन का जोखिम बढ़ रहा है। कुल आर्थिक नुकसान में बड़ी मौसमी घटनाओं से होने वाली हानि की हिस्सेदारी 77 प्रतिशत है, जो 2,245 अरब डॉलर के करीब है। इस तरह 1978 से 1997 के बीच इनसे 895 अरब डॉलर का सीधा आर्थिक नुकसान हुआ था। इसमें अमेरिका को 944.8 अरब डॉलर, चीन को 492.2 अरब डॉलर, जापान को 376.3 अरब डॉलर, भारत को 79.5 अरब डॉलर और प्यूर्तो रिको को 71.7 अरब डॉलर का नुकसान हुआ है। बाढ़, तुफान और भूकंप से होने वाले ज्यादा आर्थिक नुकसान में तीन यूरोपीय देश शीर्ष पर हैं। इसमें फ्रांस को 48.3 अरब डॉलर, जर्मनी को 57.9 अरब डॉलर और इटली को 56.6 अरब डॉलर का नुकसान हुआ है।

राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालAero India 2021: चालबाज चीन होगा पस्त! इन बेहद खास मिसाइलों को मित्र देशों को निर्यात करेगा भारत******भारत आत्मनिर्भर बनने के साथ-साथ अपने उन मित्र देशों को मजबूत करना चाहता है जो चीन की आक्रामकता की वजह से प्रभावित हैं। इन चीन विरोधी देशों को भारत एक-एक कर नई मिसाइलों से लैस कर उन्हें ताकतवर बनाने की नीति पर काम कर रहा है, इस तरह से भारत हिंद प्रशांत क्षेत्र में चीनी खतरे को जड़ से समाप्त करने के प्रयास में लगा हुआ है। आप भी जानिए कि आखिर वो कौन सी मिसाइल हैं जिन्हें भारत अपग्रेड कर अपनी क्षमता को और भी मजबूत कर रहा है और वो कौन सी ऐसी मिसाइलें हैं जिन्हें भारत चीन को पस्त करने के लिए अपने मित्र देशों को निर्यात करेगा। बेंगलुरु में चल रहे एशिया के सबसे बड़े एयरो शो एयरो इंडिया 2021 में इन सभी मिसाइल को दिखाया गया है। इंडिया टीवी संवाददाता टी राघवन की इस एक्सक्लुसिव रिपोर्ट से आपको अंदाजा लग जाएगा कि मिसाइल पॉवर से भारत कैसे दुनिया में महाशक्ति बनने जा रहा है।डिफेंस रिसर्च डिवेलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन यानी DRDO ने एयरो इंडिया 2021 में सरफेस टू एयर, एयर टू एयर एंड सी टू एयर मार करने वाली मिसाइलों के कई संस्करण पेश किए हैं, जिनमें अस्त्र, एलआरएसएएम, क्यूआरएसएएम शामिल है। अस्त्र मिसाइल का हवा से हवा में मार करने वाला संस्करण, नई पीढ़ी की एंटी रेडिएशन मिसाइल (एनजीएआरएम) और स्मार्ट एंटी एयरफील्ड वेपन (एसएएडब्ल्यू) को एयरो शो में दिखाकर भारत को आँख दिखाने दुश्मन देशों को आगाह कर दिया है।मिसाइल की बात हो तो सबसे पहले जिक्र ब्रह्मोस का आता है, ब्रम्होस भारत का ब्रम्हास्त्र है जिसका वार कभी खाली नहीं जाता। सुपर सोनिक सर्वाधिक खतरनाक एवं प्रभावी शस्त्र प्रणाली है, यह न तो रडार की पकड़ में आती है और न ही दुश्मन इसे बीच में भेद सकता है। एक बार दागने के बाद लक्ष्य की तरफ बढ़ती इस मिसाइल को किसी भी अन्य मिसाइल या हथियार प्रणाली से रोक पाना असंभव है, 300 किलोग्राम वजन के हथियार को ले जाने में सक्षम इस मिसाइल को मोबाइल करियर से भी लांच किया जा सकता है। ब्रह्मोस मिसाइल का परीक्षण पोखरण क्षेत्र में कई बार किया जा चुका है। हाल ही में इस मिसाइल में कुछ सुधार कर इसकी क्षमता को भी बढ़ाया गया है। इसे समुद्र और सतह के साथ हवा से भी दागा जा सकता है। इसकी अधिकतम गति 2.8 मैक अर्थात ध्वनि की गति से लगभग तीन गुनी अधिक है। मौजूदा ब्रम्होस मिसाइल फिलहाल सुखोई जैसे बड़े लड़ाकू विमानों के लिए बनी है लेकिन भारत ने अपने हवाई जंगी बेड़े के फायर पॉवर को और घातक बनाने के लिए हल्के लड़ाकू विमानों के लिए ब्रम्होस को तैयार करने का काम शुरू कर दिया गया है। इसे ब्रम्होस नेक्स्ट जनरेशन यानि ब्रम्होस NG का नाम दिया गया है। ब्रम्होस एरोस्पेस के MD डॉ सुधीर मिश्रा ने ब्रह्मोस NG के बारे में कई अहम जानकारियां दी है। दुनिया के सबसे घातक मिसाइल्स की श्रेणी में गिनी जाने वाली ब्रम्होस मिसाइल भारत के लिए इतनी अहम है कि खुद चीफ ऑफ एयर स्टाफ RKS भदौरिया ब्रम्होस NG का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।भारत की मिसाइल पॉवर को मजबूत करने वाली घातक एंटी रेडिएशन रुद्रम-1 मिसाइल भी है, जिसे पहली बार एयरो शो 2021 में दिखाया गया है। वायु सेना के सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान के जरिए एंटी रेडिएशन मिसाइल रुद्रम-1 की मारक क्षमता 200 किलोमीटर तक की है और इस रेंज में आने वाले अपने लक्ष्य को यह मिसाइल तहस नहस करने में सक्षम है। रुद्रम-1 के बारे में बताया जा रहा है कि दुश्मनों के रडार भी इससे नहीं बच सकते। रूद्रम मिसाइल को अभी सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान के साथ इस्तेमाल करने के लिए बनाया गया है। बीते वर्ष अक्टूबर में इसका सफल परीक्षण भी किया गया था। भविष्‍य में इसे मिराज 2000, जैगुआर, एचएएल तेजस और एचएएल तेजस मार्क 2 के साथ भी इस्तेमाल किया जा सकता है। भारत में बनाई गयी यह पहली ऐसी मिसाइल है, जो किसी भी ऊंचाई से दागी जा सकती है। ये मिसाइल किसी भी तरह के सिग्नल और रेडिएशन को पकड़ सकती है। साथ ही अपने राडार में लाकर ये मिसाइल टारगेट को नष्ट कर सकती है।अपनी आत्मनिर्भरता को बढ़ाने के साथ साथ भारत दुनिया में खुद को एक महाशक्ति के रूप में स्थापित करने की कोशिश में भी लग गया है। ब्रह्मोस मिसाइल सिस्टम को भी खरीदने में कई देशों ने रुचि दिखाई है। सरकार के इस निर्णय के बाद रक्षा जगत में भारत का रुतबा पूरी दुनिया में बढ़ जाएगा। इससे भारत को दुनिया में स्वयं को एक महाशक्ति के रूप में स्थापित करने में मदद मिलेगी। मोदी सरकार रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देना चाहती है, इसीलिए वह बड़े पैमाने के रक्षा निर्यात पर अपना ध्यान केंद्रित कर रही है। सरकार चाहती है कि भारत का रक्षा निर्यात पांच अरब डॉलर तक सालाना हो जाए, उसने इसे पूरा करने के लिए एक समिति का भी गठन किया है, ताकि विभिन्न देशों में रक्षा निर्यात की संभावनाओं को तलाशा जा सके। अभी तक दुनिया के रक्षा बाजार में भारतीय निर्यात काफी कम है भारत सरकार ने 2025 तक 35,000 करोड़ रुपए के रक्षा उत्पाद निर्यात करने का लक्ष्य रखा है और इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए अलग अलग रक्षा उत्पादों के साथ ब्रह्मोस मिसाइल और आकाश मिसाइल को भी मित्र देशों को एक्सपोर्ट करने का फैसला कर लिया गया है।अब हम आपको आकाश मिसाइल के बारे में बताते हैं। आकाश को वायु सेना में वर्ष 2014 में और थल सेना में वर्ष 2015 में शामिल किया गया था। आकाश मिसाइल की तकनीक एवं विकास 96 प्रतिशत स्वदेशी है, पिछले दिनों विश्व के जिन देशों में रक्षा प्रदर्शनियां आयोजित हुई हैं उनमें आकाश मिसाइल को लेकर कई देशों ने रुचि दिखाई है। इसी वजह से इस मिसाइल के निर्यात को सरकार ने मंजूरी दी। ये तय है कि आकाश और ब्रम्होस मिसाइल की बिक्री से वैश्विक रक्षा बाजार में भारत की भागीदारी बढ़ जाएगी। फिलहाल आकाश मिसाइल की खरीद में दक्षिण एशिया के नौ देशों एवं अफ्रीकी मित्र देशों ने रुचि दिखाई है। कुछ मित्र देशों ने आकाश मिसाइल के अतिरिक्त तटीय निगरानी प्रणाली, रडार तथा एयर प्लेटफॉर्म को भी खरीदने में अपना रुझान दिखाया है। साथ ही हल्के लड़ाकू विमान, हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइलें, सतह से सतह पर मार करने वाली मिसाइलें, सुपरसोनिक क्रूज मिसाइलें इस लिस्ट में शामिल हैं। वियतनाम सहित दक्षिण पूर्व एशिया के अधिकांश देश दक्षिण चीन सागर पर चीन की दबंगई को खुलेआम चुनौती दे रहे हैं। फिलीपींस तो अब चीन को साफ शब्दों में कह चुका है कि वह उसके किसी भी दुस्साहस पर उससे उसी ढंग से निपटेगा, ऐसे देशों को भारतीय मदद उन्हें और ताकतवर बनाएगी।आकाश के अलावा भारत-रूस के संयुक्त प्रयास से निर्मित ब्रह्मोस मिसाइल सिस्टम को भी खरीदने में कई देशों ने रुचि दिखाई है। वियतनाम चीन से बचाव के लिए इसे खरीदना चाहता है। इस अत्याधुनिक मिसाइल सिस्टम को बेचने के लिए भारत की नजर में वियतनाम के अतिरिक्त 15 अन्य देश भी हैं। वियतनाम के बाद फिलहाल जिन देशों से बिक्री की बातचीत चल रही है उनमें इंडोनेशिया, दक्षिण अफ्रीका, चिली, ब्राजील, फिलीपींस, मलेशिया, थाईलैंड और संयुक्त अरब अमीरात शामिल हैं। कुल मिलाकर सरकार के इस निर्णय के बाद रक्षा जगत में भारत का रुतबा पूरी दुनिया में बढ़ जाएगा। इससे भारत को दुनिया में स्वयं को एक महाशक्ति के रूप में स्थापित करने में मदद मिलेगी।राशिफल20अप्रैल2021वृषराशिवालोंपरआजमेहरबानरहेगीकिस्मतजानिएअन्यकाहालभारतीय रेलवे 2 दिसंबर से पश्चिम बंगाल में चलाएगा 54 उपनगरीय ट्रेनेंः रेल मंत्री पीयूष गोयल****** भारतीय रेलवे अगले महीने 2 दिसंबर यानि बुधवार से गैर-उपनगरीय यात्री सेवाओं की 54 ट्रेनों की शुरुआत करेगा। ये जानकारी खुद केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष ने ट्वीट करके दी है। ये ट्रेनें पश्चिम बंगाल में चलाई जाएंगी। ने ट्वीट करके बताया कि, 2 दिसंबर से रेलवे 54 गैर-उपनगरीय यात्री सेवाएं (27 जोड़ी) पश्चिम बंगाल से पर्याप्‍त सुरक्षा मानदंडों के साथ शुरू करेगा। इससे राज्य के लोगों की आवाजाही, संपर्क और सुविधा में आसानी होगी।साथ ही भारतीय रेलवे के पूर्व मध्य रेलवे जोन ने कोरोना काल के बीच चल रही स्पेशल ट्रेनों के परिचालन का भी विस्तार किया है। रेलवे ने बिहार के जयनगर, दरभंगा, बरौनी, रक्सौल, मुजफ्फरपुर और सहरसा से चल रही 13 स्पेशल ट्रेनों को अब 31 दिसंबर 2020 तक चलाने का फैसला किया है। बता दें कि, रेलवे ने कोविड-19 के बीच फेस्टिव सीजन में 30 नवंबर तक यात्रियों की सुविधाओं का ख्याल रखते हुए विशेष ट्रेनों का संचालन करने का ऐलान किया था। जिसके बाद से यात्रियों में असमंजस की स्थिति बनी हुई थी कि क्या 30 नवंबर के बाद इन ट्रेनों का परिचालन बंद हो जाएगा।रेलवे ने 31 दिसंबर 2020 तक ट्रेनों के परिचालन की घोषणा कर दी है, जिससे रेल यात्रियों ने राहत की सांस ली है। पूर्व मध्य रेलवे के समस्तीपुर रेलमंडल के अलग-अलग स्टेशनों से खुलने वाली 13 विशेष ट्रेनों के परिचालन को 31 दिसंबर 2020 तक चलाने की हरी झंडी मिल गई है। यात्रियों को ट्रेन खुलने के समय से कुछ घंटे पहले रेलवे स्टेशन पहुंचना होगा, जिससे उन्हें कोविड-19 की जांच के बाद प्लेटफॉर्म में एंट्री मिल सके।02521/02522 बरौनी- एरनाकुलम-बरौनी एक्सप्रेस02577/02578 दरभंगा -मैसुर - दरभंगा एक्सप्रेस02545/02546 रक्सौल-लोकमान्य तिलक टर्मिनल एक्सप्रेस05547/05548 जयनगर - लोकमान्य तिलक टर्मिनल एक्सप्रेस05272/05271 मुजफ्फरपुर - हावड़ा एक्सप्रेस05559/05560 दरभंगा - अहमदाबाद एक्सप्रेस05251/05252 दरभंगा - जालंधर सिटी एक्सप्रेस05563/05564 जयनगर-उधना एक्सप्रेस05531/05532 सहरसा - अमृतसर एक्सप्रेस05267/05268 रक्सौल -लोकमान्य तिलक टर्मिनल एक्सप्रेस05529/05530 सहरसा - आनंद विहार टर्मिनल एक्सप्रेस03228/03227 राजेन्द्र नगर - सहरसा इंटरसिटी एक्सप्रेस03226/03225 जयनगर - पटना इंटरसिटी एक्सप्रेस

पिछला:'धड़क' के 3 साल पूरे होने पर ईशान खट्टर और जान्हवी कपूर ने साझा की यादें
अगला:एहसान मनी ने की अपील कहा, बीग-3 में से नहीं होना चाहिए आईसीसी का अगला चेयरमैन
संबंधित आलेख