मुखपृष्ठ > हुआरौ जिला
'नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट' के बिना देश नहीं छोड़ सकता इमरान खान के शासन का कोई भी सरकारी अधिकारी
रिलीज़ की तारीख:2022-10-08 02:45:44
विचारों:361

नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारीAsia Cup 2018 Final Preview: 7वीं बार एशिया कप का खिताब जीतने उतरेगी टीम इंडिया******दुबई। मौजूदा विजेता भारतीय टीम शुक्रवार को अपने सातवें एशिया कप खिताब के लिए यहां दुबई अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में बांग्लादेश से भिड़ेगी। भारत ने 2016 में भी फाइनल में बांग्लादेश को हराकर अपना छठा एशिया कप खिताब जीता था। वहीं, बांग्लादेश तीसरी बार फाइनल में पहुंचा है। पहले दो मौकों पर वह जीत हासिल करने से चूक गया था लेकिन इस बार उसकी कोशिश भारतीय चुनौती को समाप्त कर पहला खिताब जीतने की होगी।भारत ने 1984, 1988, 1990-91, 1995, 2010 और 2016 में एशिया कप के खिताब अपने नाम किए हैं। बांग्लादेश पहली बार 2012 में इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचा था लेकिन पाकिस्तान से मात खा बैठा था।दोनों टीमों ने अभी तक शानदार क्रिकेट खेली है और इसी लिहाज से इस मैच को एकतरफा नहीं माना जा सकता। बांग्लादेश की टीम उलटफेर करने और भारत को मात देने का माद्दा रखती है। इस बात से भारत भी वाकिफ है।बांग्लादेश को हालांकि अभी तक अपनी सबसे बड़ी चुनौती का सामना करना है। चुनौती सिर्फ भारत से फाइनल में भिड़ने की नहीं है बल्कि अपने चोटिल खिलाड़ियों की समस्या से जूझने की है। तमीम इकबाल पहले ही टूर्नामेंट से बाहर हो चुके हैं। अब हरफनमौला खिलाड़ी शाकिब अल हसन भी चोट के कारण स्वदेश लौट गए हैं। ऐसे में टीम की बल्लेबाजी कमजोर सी लग रही है।टीम के पास हालांकि मुश्फीकुर रहीम, मोहम्मद मिथुन, लिट्टन दास और महामुदुल्लाह जैसे बल्लेबाज हैं जो टीम को मजबूत स्कोर तक पहुंचा सकते हैं। वहीं निचले क्रम में टीम को मशरेफ मर्तुजा से तेज पारी की उम्मीद होगी।भारत की बात की जाए तो उसकी बल्लेबाजी कप्तान रोहित शर्मा और शिखर धवन के जिम्मे है। यह दोनों अभी तक टूर्नामेंट में लगातार बल्ले से रन करते आए हैं। धवन के नाम अभी तक 327 रन दर्ज हैं तो वहीं रोहित के हिस्से 269 रन हैं।टीम की समस्या यह है कि अगर इन दोनों में से कोई भी बल्लेबाज विफल हो जाता है तो टीम लडखड़ा जाती है। पिछले मैच में दोनों बल्लेबाज बाहर बैठे थे। तब लोकेश राहुल और अंबाती रायडू ने अर्धशतकीय पारियां खेलीं थीं, लेकिन मध्यक्रम विफल ही रहा था।अब जबकि रोहित और धवन दोनों फाइनल में उतरेंगे तब देखना यह होगा कि टीम प्रबंधन बाहर किसे बैठाता है। पिछले मैच में टीम ने युजवेंद्र चहल, भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह को भी आराम दिया था। यह तीनों भी इस फाइनल में वापसी करेंगे।टीम की गेंदबाजी की जिम्मेदारी बुमराह और भुवनेश्वर पर ही होगी। वहीं बांग्लादेशी मध्यक्रम के सामने चहल, कुलदीप यादव और रवींद्र जडेजा की स्पिन तिगड़ी का सामना करना आसान नहीं होगा।भारतीय गेंदबाजी जितनी मजबूत है उसी तरह से बांग्लादेश की गेंदबाजी को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। मुस्ताफीजुर रहमान ने पाकिस्तान के खिलाफ चार विकेट लिए थे। वहीं कप्तान मशरफे मुर्तजा भी तेज गेंदबाजी में टीम के धारदार हथियार हैं। स्पिन में शाकिब की कमी टीम को खलेगी लेकिन मेहेदी हसन मिराज की फॉर्म भारतीय बल्लेबाजों को परेशान कर सकती है।भारत : रोहित शर्मा (कप्तान), शिखर धवन (उपकप्तान), लोकेश राहुल, अंबाती रायडू, मनीष पांडे, केदार जाधव, महेंद्र सिंह धोनी, दिनेश कार्तिक, दीपक चहर, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, रवींद्र जडेजा, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, सिद्धार्थ कौल और खलील अहमद।बांग्लादेश : मशरफे मुर्तजा (कप्तान), लिटन दास, मुश्फिकुर रहीम, महमुदुल्लाह, मोहम्मद मिथुन, मोसादिक हुसैन, मेहदी हसन, रूबैल हुसैन, मुस्ताफिजुर रहमान, अबु हैदर, आरिफ हक, मोमिनुल हक, नजमुल हुसैन शंटो, नजमुल इस्माल।

नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारीजनवरी में रेलवे ने बनाया रिकॉर्ड, 11.979 करोड़ टन माल की हुई ढुलाई******Indian Railway। भारतीय रेलवे ने जनवरी 2021 में 11.979 करोड़ टन माल ढुलाई की। यह अब तक किसी एक महीने माल ढुलाई का सर्वाधिक आंकड़ा है। इससे पहले रेलवे ने मार्च 2019 में 11.974 करोड़ टन माल की ढुलाई का रिकॉर्ड बनाया था। रेल मंत्रालय ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी। मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि पिछले कुछ महीनों से भारतीय रेलवे की माल ढुलाई के आंकड़े साल भर पहले के समान महीने के आंकड़े को पार कर रहे हैं। ऐसे में इस साल की कुल ढुलाई पिछले साल से अधिक रहने की संभावना है।पढ़ें-पढ़ें-आठ फरवरी तक के आंकड़ों के अनुसार, भारतीय रेलवे ने 3.054 करोड़ टन माल ढुलाई की, जिसमें 1.361 करोड़ टन कोयला, 41.5 लाख टन लौह अयस्क, 10.4 लाख टन खाद्यान्न, 10.3 लाख टन उर्वरक, 9.6 लाख टन खनिज तेल और 19.7 लाख टन सीमेंट (क्लिंकर छोड़कर) शामिल है। बयान में कहा गया, ‘‘ उल्लेखनीय है कि रेलवे की माल ढुलाई को आकर्षक बनाने के लिये कई रियायतें और छूटें दी जा रही हैं। कोविड-19 महामारी का उपयोग भारतीय रेलवे द्वारा अपनी सर्वांगीण क्षमता और प्रदर्शन में सुधार करने के अवसर के रूप में किया गया है।पढ़ें-पढ़ें-पढ़ें-इसके अलावा, नये व्यवसाय को आकर्षित करने और अन्य मौजूदा ग्राहकों को प्रोत्साहित करने के लिये रेल मंत्रालय ने लोहा और इस्पात, सीमेंट, बिजली, कोयला, ऑटोमोबाइल और रसद सेवा प्रदाताओं के साथ बैठकें की हैं।’’ इसमें कहा गया कि क्षेत्रीय और संभागीय स्तर पर व्यापार विकास इकाइयां और मालवहन की गति में करीब दोगुनी बढ़ोतरी से माल ढुलाई में तेजी आ रही है। रेलवे के माल ढुलाई खंड में यह वृद्धि ऐसे समय आयी है, जब यात्री खंड कोविड-19 महामारी के असर से उबरने के लिये संघर्ष कर रहा है।महामारी के चलते अभी भी रेलवे की नियमित यात्री सेवाएं बाधित हैं और सिर्फ विशेष ट्रेनों का ही परिचालन हो पा रहा है। हालांकि ताजे आंकड़े माल ढुलाई के साथ ही यात्री खंड में भी कुछ सुधार के संकेत दे रहे हैं। फरवरी 2021 में अब तक साल भर पहले की तुलना में आरक्षित श्रेणी वाले यात्रियों की संख्या में 19 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जबकि माल ढुलाई में नौ प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गयी है।नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारी30 दिनों के भीतर हेल्‍थ इंश्‍योरेंस का क्‍लेम निपटाएं बीमा कंपनियां या ब्‍याज देने के लिए रहें तैयार : Irdai****** कई बार कुछ बीमा कंपनियां भांति-भांति के बहाने बनाते हुए क्‍लेम निपटाने में देरी करती हैं। हालांकि, अब उनके लिए किसी भी कारण से क्‍लेम निपटाने में देरी करना महंगा साबित होगा। दरअसल, भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (Irdai) ने बीमा कंपनियों को सख्‍त निर्देश जारी किया है कि वे 30 दिनों के भीतर क्‍लेम का निपटान करें। अगर इस काम वे देरी करते हैं तो क्‍लेम की रकम पर उन्‍हें बैंकों की तुलना में दो फीसदी ज्‍यादा ब्‍याज देना होगा। Irdai के अनुसार, यह कदम पॉलिसी धारकों के हितों की रक्षा के लिए उठाया गया है।Step by Step Guide : दुर्घटना होने पर थर्ड पार्टी इंश्‍योरेंस क्‍लेम करने का यह है आसान तरीकाIrdai ने कहा है कि इस दिशानिर्देश का उद्देश्‍य यह सुनिश्चित करना है कि पॉलिसी धारकों की हितों की रक्षा सुनिश्चित हो और बीमा कंपनियां शिकायत निपटान के साथ पॉलिसी धारक केंद्रित प्रशासन पर ध्‍यान दें। हालांकि, ऐसे मामलों में जहां बीमा कंपनियां क्‍लेम की प्रक्रिया के तहत जांच करती हैं, वहां Irdai के अनुसार, कंपनियों को जरूरी दस्‍तावेज मिलने के 30 दिनों के भीतर इसे पूरा करना होगा। अगर इस प्रक्रिया में 45 दिनों से अधिक का विलंब होता है तो हेल्‍थ इंश्‍योरेंस कंपनी को बैंकों की तुलना में 2 फीसदी अधिक ब्‍याज का भुगतान क्‍लेम की राशि पर दस्‍तावेज प्राप्‍त होने की तिथि से करना होगा। खास तौर से महिलाओं के लिए डिजाइन किए गए हैं ये बीमा प्रोडक्‍ट, जरूरत के अनुरूप उठाएं Irdai ने बीमा कंपनियों को यह निर्देश भी दिया है कि पॉलिसी धारकों की शिकायत निपटाने के लिए उनकी एक उचित नीति होनी चाहिए ताकि इसके शीघ्र और प्रभावकारी तरीके से सुलझाया जा सके। बीमा कंपनियों को अपनी वेबसाइट पर सर्विस के मानदंड और शिकायत पर सुनवाई की अवधि भी बतानी होगी जो उनके बोर्ड से मंजूर है।

'नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट' के बिना देश नहीं छोड़ सकता इमरान खान के शासन का कोई भी सरकारी अधिकारी

नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारीDroupadi Murmu Oath Ceremoney Highlights: मेरा राष्ट्रपति बनना देश के हर गरीब की उपलब्धिः द्रौपदी मुर्मू******Droupadi Murmu Oath Ceremoney Live Update:राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू देश की15वीज राष्ट्रपति बन गई हैं। उन्होंने संसद भवन के सेंट्रल हॉल में शपथ ली। चीफ जस्टिस ने उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। शपथग्रहण से पहले वे राष्ट्रपति भवन गईं थीं, वहां उन्होंने रामनाथ कोविंद से मुलाकात की। फिर कोविंद और द्रौपदी मुर्मू संसद भवन पहुंचे फिर थे, जहां शपथग्रहण समारोह में उन्होंने शपथ ली। इससे पहले आज सुबह राजघाट स्थित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर पहुंची और उन्हें श्रद्धांजलि दी। राष्ट्रपति पद के शपथग्रहण समारोह की पल पल की अपडेट के लिए बने रहिए इंडिया टीवी के साथ।नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारीSwiss open: पीवी सिंधु का शानदार फॉर्म जारी, थाईलैंड की खिलाड़ी को हराकर जीता स्विस ओपन का खिताब******भारत की शीर्ष शटलर पीवी सिंधु ने रविवार को यहां बासेल के सेंट जैकबशाले मैदान में स्विस ओपन 2022 महिला एकल का खिताब अपने नाम कर लिया है। यह सिंधु का साल का दूसरा सुपर 300 खिताब है। उसने जनवरी में सैयद मोदी इंटरनेशनल जीता है। डबल ओलंपिक पदक विजेता भारतीय ने थाईलैंड के बुसानन ओंगबामरुंगफान को 49 मिनट में 21-16, 21-8 से हराया।सिंधु ने फाइनल में तेज शुरुआत की और पहले गेम में 3-0 की बढ़त बना ली। लेकिन थाई शटलर ने खेल को 3-3 से बराबर कर दिया। सिंधु ने फिर अपना हौसला बनाए रखा और पहले गेम पर कब्जा करने के लिए छह में से अंतिम पांच अंक हासिल किए। सिंधु ने दूसरे गेम में शानदार प्रदर्शन करते हुए अपने विरोधी खिलाड़ी को कोई मौका नहीं दिया और इस गेम को आसानी से 21-8 से अपने नाम कर लिया। इस जीत के साथ सिंधु का अब थाई खिलाड़ी के खिलाफ आमने-सामने का रिकॉर्ड 16-1 हो गया है।नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारीCoal Crisis: देशभर में जारी बिजली संकट को लेकर अमित शाह के घर बड़ी बैठक, कोयला और ऊर्जा मंत्री रहे मौजूद****** देश में चल रहे बिजली संकट को लेकर गृहमंत्री के घर पर बड़ी बैठक चल रही है। इस बैठक में कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी, उर्जा मत्री आरके सिंह और रेल मंत्री अश्विणी वैष्णव भी मौजूद हैं। दरअसल अलग अलग राज्यों के मुख्यमंत्री के बयान आए थे कि इन राज्यों को कोयला नहीं मिल पा रहा है जिसकी वजह से बिजली संकट खड़ा हो रहा है जिसे देखते हुए गृहमंत्री ने ये बैठक बुलाई है। बैठक के लिए कोयला और ऊर्जा सचिव समेत कई बड़े अधिकारियों को भी बुलाया गया है।बैठक में कोयले के ट्रांसपोर्टेशन को लेकर बातचीत हो रही है। इसमें कोयले की सप्लाई को कैसे बाधित होने से रोका जाए इसपर मंथन किया जाएगा ताकि सभी राज्यों में कोयले की सप्लाई ठीक से हो सके और बिजली संकट को रोका जा सके।इस वक्त ज्यादातर राज्यों में जहां गर्मी प्रचंड पड़ रही है वहीं, बिजली की कमी की भी समस्या सामने आ पड़ी है। कई राज्यों में लोड शेडिंग के चलते घंटों बिजली गुल होने की शिकायतें आ रही हैं। इस हालात के दोनों कारण है- एक तो बिजली घरों में कोयले के स्टॉक का कम होना और दूसरा बढ़ती गर्मी के चलते बिजली की डिमांड का रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच जाना। अखिल भारतीय बिजली इंजीनियर महासंघ (AIPEF) के मुताबिक , मध्य प्रदेश, बिहार और उत्तर प्रदेश समेत 12 राज्य बिजली संकट से जूझ रहे हैं। AIPEF के प्रवक्ता वीके गुप्ता का कहना है कि गर्मी के दिनों में बिजली की मांग बढ़ जाती है ऐसे में बिजली प्रोडक्शन बढ़ाने के लिए ज्यादा कोयले की जरुरत होती है।आपको बता दें कि भारत करीब 200 गीगावॉट बिजली यानी करीब 70% बिजली का उत्पादन कोयले से चलने वाले प्लांट्स से करता है। देश में कोयले से चलने वाले 150 बिजली के प्लांट्स है। पिछले दिनों बिजली संकट गहराने पर बिजली प्लांट्स तक कोयला ले जाने वाली ट्रेनों को रास्ता देने के लिए रेलवे ने ट्रेनों के 670 फेरे रद्द कर दिए थे।

'नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट' के बिना देश नहीं छोड़ सकता इमरान खान के शासन का कोई भी सरकारी अधिकारी

नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारीकेंद्रीय विद्यालयों में समाप्त हो सकता है 10 सीटों का सांसद कोटा****** केंद्रीय विद्यालयों में दाखिले के लिए सांसदों को मिलने वाला 10 सीटों का कोटा समाप्त हो सकता है। स्वयं विभिन्न पार्टी के सांसदों ने सोमवार को लोकसभा में यह कोटा बढ़ाने या फिर पूरी तरह से समाप्त करने की मांग शिक्षा मंत्री के समक्ष रखी है। आपको बता दें कि में दाखिला दिलाने के लिए सांसदों को यह कोटा मिलता है। सांसद अपने निर्धारित कोटे के आधार पर अपने क्षेत्र में छात्रों के दाखिले की सिफारिश करते हैं। सांसदों की सिफारिश के आधार पर अधिकतम 10 छात्रों को दाखिला दिया जा सकता है।सोमवार को लोकसभा में बोलते हुए कांग्रेस सांसद ने कहा कि केंद्रीय विद्यालयों में दाखिले के लिए दिया जाने वाला 10 सीटों का सांसद कोटा काफी कम है। लोग इससे कहीं ज्यादा संख्या में सांसदों के पास केंद्रीय विद्यालय में दाखिले के लिए आते हैं। ऐसी स्थिति में 10 सीटें काफी कम है।तिवारी ने कहा कि केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय इस कोटे को बढ़ाएं और यदि कोटा बड़ा है नहीं जा सकता तो इसे समाप्त कर दिया जाए। ऐसी ही मांग कई और अन्य पार्टियों के सांसदों द्वारा भी शिक्षा मंत्री के समक्ष रखी गई। इसके जवाब में केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि क्या हम अपने अधिकार का प्रयोग कुछ चंद लोगों के लिये काम करेंगे या फिर सांसद के तौर पर हम सभी के लिये समान काम करेंगे।केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने इस विषय पर लोकसभा अध्यक्ष से मार्गदर्शन करने की भी अपील की। लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने सभी सदस्यों से कहा कि अगर सभी सहमत हों तो क्या केंद्रीय विद्यालय में कोटे से होने वाले दाखिले की प्रक्रिया को समाप्त कर दिया जाए। लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि इस विषय पर सभी दलों के नेताओं से बात करनी चाहिए उन्होंने शिक्षा मंत्री से सभी दलों की बैठक बुलाकर इस विषय पर निर्णय लेने को कहा है।इस बीच देश भर के केंद्रीय विद्यालयों में पहली कक्षा के छात्रों के लिए दाखिला प्रक्रिया शुरू हो गई है। इस वर्ष केंद्रीय विद्यालयों की दाखिला प्रक्रिया में नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति का पालन किया जा रहा है। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के मुताबिक पहली कक्षा में दाखिले के लिए छात्रों की आयु एक मार्च 2022 तक छह वर्ष पूरी होनी चाहिए। केंद्रीय विद्यालय संगठन (केवीएस) उन छात्रों को प्राथमिकता के आधार पर प्रवेश प्रदान करेगा, जिन्होंने कोरोना के कारण अपने माता-पिता को खो दिया है। इस वर्ष कक्षा एक से बारहवीं तक किसी भी कक्षा के लिए सभी केन्द्रीय विद्यालय में इस नियम का पालन किया जाएगा।केंद्रीय विद्यालय संगठन के मुताबिक दाखिला प्रक्रिया के लिए अभिभावकों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। पहली कक्षा के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की तारीख 11 अप्रैल तक है। यह दाखिला प्रक्रिया वर्ष 2022-23 के दौरान आयोजित किए जाने वाले शैक्षणिक सत्र के लिए आयोजित की जा रही है।केंद्रीय विद्यालयों में पहली कक्षा में दाखिला पाने के लिए जहां इस वर्ष न्यूनतम आयु 6 वर्ष कर दी गई है, वहीं पिछले वर्ष तक पहली कक्षा में दाखिले के लिए आयु सीमा 5 वर्ष थी। इस वर्ष नई शिक्षा नीति के अनुपालन हेतु यह बदलाव किया गया है। केंद्रीय विद्यालयों में कक्षा 2 और उससे ऊपर की कक्षाओं के लिए उपलब्ध खाली सीटों के आधार पर नए दाखिले प्रदान किए जाएंगे। कक्षा 2 व उससे ऊपर की कक्षाओं में खाली हुई सीटों की लिस्ट इस 21 अप्रैल को जारी की जा सकती है।(इनपुट- एजेंसी)नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारीभारतीय बाजार में लॉन्च हुई ट्रायम्फ टाइगर स्पोर्ट 660 बाइक, कीमत जानकर आ जाएगा दिल******TriumphHighlightsनयी दिल्ली। ब्रिटेन के प्रीमियम मोटरसाइकिल ब्रांड ट्रायम्फ मोटरसाइकिल्स ने भारत में पूर्ण रूप से नई टाइगर स्पोर्ट 660 बाइक पेश की है। इस मोटरसाइकिल की शोरूम कीमत 8.95 लाख रुपये है। कंपनी ने मंगलवार को यह जानकारी दी है। कंपनी ने कहा कि उसने टाइगर स्पोर्ट 660 के साथ प्रीमियम मध्यम भार की एडवेंचर श्रेणी में प्रवेश किया है।यह एक लंबी यात्रा की सुविधा प्रदान करने वाली बाइक है। लंबी सुविधाजनक यात्रा की वजह से यह युवाओं की पसंदीदा बाइक बनेगी।ट्राइडेंट 660 में इस्तेमाल किए जाने वाले 660 cc ट्रिपल-सिलेंडर पावरट्रेन को ही टाइगर स्पोर्ट 660 में भी दिया गया है। यह इंजन 81 bhp का पावर और 64Nm का टार्क जेनरेट करता है। इस इंजन के साथ 6-स्पीड गियरबॉक्स और एक ऑप्शनल अप/डाउन क्विकशिफ्टर दिया गया है।यह भारत में तीन कलर ऑप्शन - ल्यूसर्न ब्लू और सैफायर ब्लैक, कोरोसी रेड और ग्रेफाइट, और एक न्यूनतम ग्रेफाइट और ब्लैक में बिक्री के लिए उपलब्ध है। ये सभी कलर ऑप्शन अंतरराष्ट्रीय बाजारों में खरीदने के लिए पहले से ही उपलब्ध हैं।मिडिलवेट एडवेंचर टूरिंग बाइक के तौर पर पोजिशन किए जाने की वजह से, टाइगर स्पोर्ट 660 भारतीय बाजार में Kawasaki Versys 650 (कावासाकी वर्सेस 650) और Suzuki V-Storm 650 XT (सुजुकी वी-स्टॉर्म 650 एक्सटी) जैसी बाइक को टक्कर देगी।

'नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट' के बिना देश नहीं छोड़ सकता इमरान खान के शासन का कोई भी सरकारी अधिकारी

नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारीAAP के पांचों मुस्लिम उम्मीदवार जीते, कांग्रेस तीसरे नंबर पर, अमानतुल्लाह ने बनाया रिकॉर्ड****** राजधानी दिल्ली में एकबार फिर से आम आदमी पार्टी की सरकार बनने जा रही है। इस वक्त आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी 29 सीटों पर आगे चल रहे हैं, जबकि उसके 34 उम्मीदवार अभी बढ़त बनाए हुए हैं। आम आदमी पार्टी का जादू दिल्ली में सभी वर्गों के सिर चढ़कर बोला। पार्टी के पांचो मुस्लिम उम्मीदवार इसबार चुनाव जीतकर विधानसभा पुहंचने में कामयाब रहे।AAP ने मटिया महल, सीलमपुर, ओखला, बल्लीमारान और मुस्तफाबाद से मुस्लिम समाज के प्रत्याशियों पर भरोसा जताया था। कांग्रेस ने भी इन पांचों सीटों पर मुस्लिम उम्मीदवार उतारे थे।आइए नजर डालते हैं इन पांचों सीटों के चुनाव परिणाम पर

नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारीAir India News: एयर इंडिया खाली कर रही है अपने दफ्तर, जानिए क्या है कारण******बीते साल टाटा समूह के हाथों में जाते ही सरकारी विमानन कंपनी एक निजी कंपनी में बदल गई है। ऐसे में अब कंपनी ने देश भर की सरकारी इमारतों में मौजूद अपने कार्यालयों को खाली करना शुरू कर दिया है। बता दें कि एयर इंडिया के ऑफिस इंदिरा गांधी एयरपोर्ट के साथ सफदरजंग कॉम्पलेक्स जैसी पॉश इमारतों में हैं।विमानन कंपनी एयर इंडिया ने देशभर में अपने कार्यस्थलों को एकसाथ लाने की रणनीति पर काम कर रही है। इसके तहत सितंबर से उन कार्यालयों को खाली करना शुरू कर दिया है जिनका संचालन अभी सरकारी स्वामित्व वाली संपत्तियों से हो रहा है। कंपनी ने एक बयान में कहा कि कि एयर इंडिया, एयर इंडिया एक्सप्रेस और एयर एशिया इंडिया के कार्यालय अगले वर्ष मार्च से राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में बने आधुनिक कार्यालय परिसर से संचालित होंगे। यह कंपनी की समेकन की रणनीति के तहत किया जा रहा है जिससे सहयोग बेहतर हो सके और नई प्रौद्योगिकियों को सुगमता से लागू किया जा सके।एयर इंडिया के कर्मचारी बड़ी संख्या में नई दिल्ली में एयरलाइंस हाउस, सफदरजंग कॉम्प्लेक्स, जीएसडी कॉम्प्लेक्स और आईजीआई टर्मिनल वन पर हैं। इन स्थानों पर कार्यरत कर्मचारियों को गुरुग्राम में अस्थायी कार्यालय में स्थानांतरित किया जाएगा और अंततः वर्ष 2023 की शुरुआत में उन्हें नवनिर्मित वाटिका वन-ऑन-वन परिसर में भेजा जाएगा।एयर इंडिया के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी कैम्पबेल विल्सन ने कहा, ‘‘अनेक कार्यालयों को एक छत के नीचे लाना और क्षेत्रीय ढांचे से केंद्रीकृत ढांचे की ओर बढ़ना एयर इंडिया की रूपांतरण यात्रा में अहम पड़ाव है।’’ एयर इंडिया और एयर इंडिया एक्सप्रेस का इस साल 27 जनवरी को टाटा समूह ने अधिग्रहण कर लिया था। इन एयरलाइन के अलावा टाटा समूह की विस्तार और इसके संयुक्त उपक्रम में बहुलांश 51 फीसदी हिस्सेदारी और एयर एशिया इंडिया में 83.67 फीसदी हिस्सेदारी है।नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारीGood News : विप्रो ने दी खुशखबरी, 1 सितम्बर से जूनियर कर्मचारियों की बढ़ेगी सैलरी******विप्रो ने दी खुशखबरी, 1 सितम्बर से जूनियर कर्मचारियों की बढ़ेगी सैलरीनयी दिल्ली। कोविड-19 से प्रभावित आर्थिक गतिविधियों के बीच आईटी कंपनी विप्रो लिमिटेड ने शुक्रवार को कहा कि वह एक सितम्बर से अपने कनिष्ठ कर्मचारियों का वेतन बढ़ाएगी। कंपनी ने एक बयान में कहा कि विप्रो बैंड बी3 (सहायक प्रबंधक और नीचे) तक के सभी पात्र कर्मचारियों के लिए योग्यता आधारित वेतन वृद्धि (एमएसआई) शुरू करेगी, जो एक सितम्बर से प्रभावी होगी। उसने कहा कि कंपनी ने एक जनवरी 2021 को इन बैंड वर्ग में आने वाले लगभग 80 प्रतिशत योग्य कर्मचारियों का वेतन बढ़ाने की घोषणा की थी।इस वर्ष यह यह दूसरी वेतन बढ़ोतरी है।कंपनी ने कहा कि जैसा कि पहले घोषणा की गई, सभी बैंड सी1 (प्रबंधक और ऊपर के पद) के सभी पात्र कम्रचारियों को एक जून से वेतन वृद्धि का लाभ मिलेगा। विप्रो ने कहा, ‘‘औसतन, अपतटीय कर्मचारियों के लिए वेतन वृद्धि उच्च एकल अंकों में होगी जबकि यह ऑनसाइट कर्मचारियों के लिए मध्य-एकल अंकों में होगी। कंपनी शीर्ष प्रदर्शन करने वालों को अधिक वेतन वृद्धि के साथ पुरस्कृत करेगी।’’ कंपनी ने हालांकि कुल कितनी वेतन बढ़ोतरी की है, उसकी जानकारी नहीं दी। विप्रो आम तौर पर जून के दौरान वेतन में वृद्धि करती है। विप्रो में कर्मचारियों को पांच श्रेणियों में (ए से लेकर ई तक) में रखा गया है। इसमें बी3 बैंड में सबसे ज्यादा कर्मचारी हैं जो कि कंपनी के कुल 1.97 लाख कर्मचारियों में सबसे ज्यादा हैं।विप्रो के सीईओ थिएरी डेलापोर्ट ने वित्त वर्ष 2020-21 में 87 लाख डॉलर (करीब 64.3 करोड़ रुपए) का वेतन पैकेज हासिल किया। विप्रो ने शेयर बाजार को दी सूचना में बताया कि डेलापोर्ट को यह वेतन छह जुलाई, 2020 से 31 मार्च, 2021 की अवधि के लिए दिया गया और इसमें एक बारगी नकद, वार्षिक शेयर अनुदान, एक बारगी आरएसयू (सीमित शेयर यूनिट) शामिल हैं। केपजैमिनी के पूर्व अधिकारी डेलापोर्ट ने छह जुलाई को विप्रो के सीईओ और प्रबंध निदेशक का पद संभाला था। उन्होंने पद पर अबिदाली नीमचवाला की जगह ली। सूचना के अनुसार डेलापोर्ट को 13.1 लाख डॉलर का वेतन एवं भत्ते (9.6 करोड़ रुपए), 15.4 लाख डॉलर का कमीशन एवं वैरिएबल पे और 51.8 लाख डॉलर के अन्य लाभ दिए गए। उन्हें इस अवधि में 7,58,719 डॉलर का दीर्घकालीन मुआवजा (विलंबित लाभ) भी दिया गया।

नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारीशेयर बाजार ने लगाई तेजी हैट्रिक, सेंसेक्स 107 अंक और निफ्टी 26 अंक बढ़कर बंद******शेयर बाजार लगातार तीसरे दिन तेजी के साथ बंद होने में कामयाब रहे है। का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स गुरुवार को 107 अंक बढ़कर 27,247 पर और NSE का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स 26 अंक बढ़कर 8407 के स्तर पर बंद हुआ है।नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारीअमेरिका: शख्स ने अपने 3 मासूम बच्चों समेत पत्नी को भी मार डाला, खुद की भी जान ली****** गोलीबारी की घटनाओं को आए दिन झेलने वाले अमेरिका में एक और बड़ी वारदात की खबर सामने आ रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमेरिका के सदर्न कैलिफोर्निया में एक घर में हुई गोलीबारी की घटना में एक ही परिवार के 3 बच्चों समेत 5 सदस्यों की मौत हो गई है। मृतकों में एक 3 साल का बच्चा भी शामिल है। पुलिस ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस घटना को बच्चों के पिता ने अंजाम दिया जो कि उनकी मां से अलग रहता था।पुलिस ने बताया कि जब वह घटनास्थल पर पहुंची तो कई लोग घायल अवस्था में मिले थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह घटना शनिवार को पैराडाइज हिल में हुई, जो -मेक्सिको सीमा से 35 किलोमीटर दूर उत्तर में स्थित है। पुलिस ने कहा कि उन्हें 911 पर सुबह 6.49 बजे फोन आया। जब वे घटनास्थल पर पहुंचे, तो उन्हें गोली लगने से घायल कई लोग मिले। 3 साल का बच्चा, 29 साल की महिला और 31 साल का एक आदमी अंदर मृत पाए गए। पांच साल के बच्चे और नौ साल के बच्चे को अस्पताल ले जाया गया लेकिन दोनों ने ही दम तोड़ दिया।पुलिस ने बताया कि एक 11 वर्षीय लड़के को भी अस्पताल में भर्ती कराया गया। सैन डिएगो पुलिस विभाग के मैट डोब्स ने कहा कि एक मां और 4 बच्चे मुख्य घर से सटे ग्रैनी फ्लैट में रहते थे, जहां परिवार के अन्य सदस्य रहते थे, लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि कुल कितने लोग अहाते में रहते थे। पुलिस को घर में एक बंदूक मिली। पुलिस ने कहा कि बच्चों का पिता उनकी मां के साथ नहीं रहता था। उसने अपनी पत्नी और अपने बच्चों को गोली मारने के बाद खुद की भी जान दे दी।

नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारीमध्य प्रदेश के इंदौर में कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट की दस्तक, दो मामले मिले******मध्य प्रदेश के इंदौर जिले में कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस वेरिएंट की दस्तक की तसदीक हो गई है और 35 वर्षीय महिला समेत दो लोग वायरस के इस प्रकार से संक्रमित पाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी। कोविड-19 की रोकथाम के लिए नोडल अधिकारी डॉ. अमित मालाकार ने संवाददाताओं को बताया, ‘‘दिल्ली के राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) की जांच रिपोर्ट में इंदौर की 35 वर्षीय महिला और 42 वर्षीय पुरुष को कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस स्वरूप से संक्रमित बताया गया है। इन लोगों के नमूने अन्य संक्रमितों के नमूनों के साथ जीनोम अनुक्रमण (सीक्वेंसिंग) के लिए जुलाई में एनसीडीसी भेजे गए थे।"उन्होंने बताया कि इंदौर में के 17 महीने के इतिहास में यह पहली बार है, जब संक्रमितों में कोरोना वायरस का डेल्टा प्लस वेरिएंट मिला है। मालाकार ने बताया, "वायरस के डेल्टा प्लस वेरिएंट से संक्रमित दोनों मरीजों ने कोविड-19 रोधी वैक्सीन की दोनों खुराकें पहले ही ले रखी थीं। इसलिए वे जुलाई में संक्रमण की जद में आने के बाद महामारी के गंभीर दुष्प्रभावों से बच गए और अपने घरों में पृथक-वास में इलाज के बाद संक्रमणमुक्त हो चुके हैं।"उन्होंने बताया कि एहतियात के तौर पर स्वास्थ्य विभाग ने दोनों व्यक्तियों के सम्पर्क में आए कुल 88 लोगों के नमूने लिए हैं और इनकी कोविड-19 की जांच कराई जा रही है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक करीब 35 लाख की आबादी वाले इंदौर जिले में अब तक कोविड-19 के कुल 1,53,046 मरीज मिले हैं। इनमें से 1,391 लोगों की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है। गौरतलब है कि इंदौर, राज्य में कोविड-19 से सबसे ज्यादा प्रभावित रहा है। हालांकि, महामारी की दूसरी लहर के कमजोर पड़ने पर इन दिनों जिले में रोजाना मिलने वाले नये संक्रमितों की तादाद इकाई अंक पर सिमट गई है।नोऑब्जेक्शनसर्टिफिकेटकेबिनादेशनहींछोड़सकताइमरानखानकेशासनकाकोईभीसरकारीअधिकारीडिस्कॉम पर बिजली उत्पादन कंपनियों का कुल बकाया 37% बढ़कर 70,000 करोड़ रुपए के करीब पहुंचा****** बिजली का वितरण करने वाली कंपनियों यानी पर कंपनियों का कुल बकाया सितंबर 2019 में एक साल पहले के इसी माह के मुकाबले 37 प्रतिशत बढ़कर 69,558 करोड़ रुपए पर पहुंच गया। इससे बिजली क्षेत्र पर दबाव का पता चलता है। वेब पोर्टल और भुगतान पुष्टि एवं उत्पादकों की बिल-प्रक्रिया में पारदर्शिता लाने हेतु बिजली खरीद विश्लेषण एप 'प्राप्ति' के अनुसार सितंबर, 2018 तक वितरण कंपनियों पर बिजली उत्पादन कंपनियों का कुल बकाया 50,583 करोड़ रुपए था। इस पोर्टल को मई, 2018 में शुरू किया गया था।इसका मकसद उत्पादों और वितरण कंपनियों के बीच बिजली खरीद प्रक्रिया में पारदर्शिता लाना था। इस साल सितंबर में उत्पादक कंपनियों द्वारा भुगतान के लिये दी जाने वाली 60 दिन की 'छूट' अवधि के बाद वितरण कंपनियों पर बकाया राशि 52,408 करोड़ रुपए थी, जो इससे पिछले साल इसी महीने में 34,658 करोड़ रुपए थी।बिजली उत्पादक कंपनियां डिस्कॉम को बिजली आपूर्ति बिलों के भुगतान के लिए 60 दिन का समय देते हैं। उसके बाद यह राशि समय पर नहीं चुकाई गई बकाया राशि की श्रेणी में आ जाती है और उत्पादक कंपनियां ज्यादातर मामलों में जुर्माने के रूप में ब्याज भी वसूलती हैं।बिजली उत्पादक कंपनियों को राहत के लिए केंद्र सरकार ने एक अगस्त से भुगतान सुरक्षा व्यवस्था लागू की है। इसके तहत डिस्कॉम को बिजली आपूर्ति पाने के लिए ऋण पत्र की जरूरत होगी। अगस्त, 2019 में डिस्कॉम पर कुल बकाया 80,087 करोड़ रुपए था। इसमें से 60,935 करोड़ रुपए का बकाया ऐसा था जो बिजली कंपनियां समय पर चुका नहीं पाई थीं।

पिछला:1.75 लाख करोड़ रुपये का विनिवेश लक्ष्य पटरी पर: मुख्य आर्थिक सलाहकार
अगला:LoC पर पाक की नापाक हरकत जारी, फायरिंग में 4 जवान समेत 9 लोगों की मौत, 10 पाक रेंजर्स ढेर
संबंधित आलेख