मुखपृष्ठ > गुआंगआन सिटी
Highlights, Pre Quarter Final SMAT 2021 : क्वार्टर फाइनल में पहुंची विदर्भ, कर्नाटक और केरल की टीम
रिलीज़ की तारीख:2022-10-08 02:46:38
विचारों:823

क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमNoida Crime News: नोएडा में लिव-इन पार्टनर पर एसिड अटैक करने वाले युवक को पुलिस मुठभेड़ में लगी गोली******Highlights गौतमबुद्ध नगर में के थाना फेस-3 क्षेत्र के मामूरा गांव में रहने वाले एक व्यक्ति ने अपनी प्रेमिका पर बीती रात तेजाब फेंक दिया। जानकारी के मुताबिक, शख्स ने प्रेमिका का संबंध अन्य व्यक्ति के साथ होने के शक में घटना को अंजाम दिया था। महिला को अत्यंत गंभीर हालत में इलाज के लिए दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया है। महिला करीब 35 फीसदी जल चुकी है। पुलिस ने शुक्रवार दोपहर को मुठभेड़ के दौरान आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस द्वारा चलाई गई गोली आरोपी के पैर में लगी है।पुलिस आयुक्त आलोक सिंह के मीडिया प्रभारी ने बताया कि मामूरा गांव में रहने वाला 28 वर्षीय विकास एक 30 वर्षीय महिला सोनिया (काल्पनिक नाम) के साथ प्रेम करता था। पुलिस ने बताया कि महिला शादीशुदा है और उसके तीन बच्चे हैं। पुलिस अधिकारी के मुताबिक महिला कुछ समय पहले अपने पति को छोड़कर विकास के साथ तीन बच्चों को लेकर मुंबई चली गई थी, लेकिन वहां 2 साल रहने के बाद दोनों बच्चों के साथ मामूरा गांव में वापस आ गए। उन्होंने बताया कि बीती रात को विकास ने महिला पर तेजाब फेंक दिया, जिसकी वजह से वह बुरी तरह से झुलस गई। पुलिस ने बताया कि उसे उपचार के लिए पहले नोएडा के जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया, लेकिन वहां उसकी बिगड़ती हालत को देखते हुए दिल्ली के में रेफर किया गया।जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि विकास महिला से कथित तौर पर प्रेम करता था और दोनों पति-पत्नी की तरह रहते थे। उन्होंने कहा कि जब विकास महिला को मुंबई से लेकर नोएडा आया, तब मामूरा गांव में रहने वाले कुछ अन्य लोगों से महिला की दोस्ती हो गई जिससे विकास काफी परेशान था। उन्होंने बताया कि पुलिस ने तेजाब फेंकने वाले आरोपी विकास को शुक्रवार दोपहर को मुठभेड़ के दौरान गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस द्वारा चलाई गई गोली उसके पैर में लगी है। पुलिस ने बताया कि विकास के पास से देसी तमंचा और कारतूस बरामद किया गया है। पुलिस यह पता लगाने का प्रयास कर रही है कि आरोपी ने तेजाब कहां से खरीदा था। तेजाब बेचने वाले के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमBJP Attacks AAP: अनुराग ठाकुर ने AAP पर बोला हमला, कहा- ‘आप’ की बातों में किताब लेकिन कर्मों में शराब है******Highlights केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर(Anurag Thakur) ने आबकारी नीति(Excise Policy) को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया पर एक बार फिर निशाना साधा। उन्होंने हमला जारी रखते हुए शुक्रवार को कहा कि AAP की बातों में भले ही किताब हो लेकिन उनके कर्मों में ‘शराब’ है। उन्होंने कहा कि AAP सरकार ने दिल्ली में पाठशाला तो नहीं बनाया लेकिन उसने ‘मधुशाला’ बहुत सारे खोल दिए। भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता ने आबकारी नीति(Excise Policy) में हुए कथित भ्रष्टाचार पर केजरीवाल और सिसोदिया की चुप्पी पर भी सवाल उठाए।ठाकुर ने कहा, ‘‘शराब घोटाले से AAP का चेहरा बेनकाब हुआ है और यह दर्शाता है कि वह ऊपर से नीचे तक भ्रष्टाचार में डूबी हुई है। क्यों उसके नेता आबकारी नीति पर पूछे जा रहे सवालों का जवाब नहीं दे रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि आप सरकार को यह जवाब देना होगा कि क्यों शराब के ठेकेदारों को 144 करोड़ रुपये लौटा दिए गए और 30 करोड़ रुपये की कमाई वापस क्यों कर दी? ज्ञात हो AAP सरकार दावा करती रही है कि उसने अपने नीतियो और कार्यक्रमों से दिल्ली में शिक्षा क्षेत्र का कायाकल्प किया है।केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘‘यदि उनकी आबकारी नीति सही थी तो उसे वापस क्यों लिया? सच्चाई ये है कि इसमें गंभीर भ्रष्टाचार हुआ है। उनके स्वास्थ्य मंत्री भ्रष्टाचार के आरोप में जेल में हैं और शराब मंत्री के खिलाफ जांच चल रही है। ऐसे मंत्री शिक्षा पर क्या प्रभाव छोड़ेंगे।’’ ज्ञात हो कि शिक्षा मंत्री सिसोदिया के पास आबकारी विभाग का भी जिम्मा है। ठाकुर ने कहा कि यदि एक मंत्री शराब के दुकानों की संख्या बढ़ाने में ही व्यस्त रहेगा तो उससे शिक्षा को लेकर क्या उम्मीद की जा सकती है। ज्ञात हो AAP सरकार दावा करती रही है कि उसने अपने नीतियो और कार्यक्रमों से दिल्ली में शिक्षा क्षेत्र का कायाकल्प किया है। ठाकुर ने कहा, ‘‘उनकी बातों में किताब है लेकिन कर्मों में केवल शराब है।’’क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमAnupamaa Spoiler: पैसों की चमक-धमक ने पाखी का किया दिमाग खराब, अपनी ही मां को रास्ते से हटाने का बनाया प्लान******Highlights: सीरियल 'अनुपमा' में एक बार फिर से अनुपमा अपने ससुराल और मायके के बीच फंसती हुई नज़र आ रही है। अनुपमा की ज़िंदगी में एक परेशानी खत्म नहीं होती कि दूसरी शुरू हो जाती है। इस बार उसकी परेशानियों की वजह बनी है उसी की बेटी पाखी। जिसका पैसों की चमक-धमक ने दिमाग खराब कर दिया है। लग्जरी लाइफ जीने की ख्वाहिश में पाखी अब अपनी ही मां के खिलाफ होती जा रही हैं।पाखी को इस रास्ते पर लाने वाले लोग हैं बरखा और उसका भाई अधिक। अपनी ओर पाखी के झुकाव का फायदा अधिक बखूबी उठा रहा है। बरखा पाखी का उसके गलत काम में साथ देकर अपने रास्ते से अनुपमा को हटाना चाहती है। पाखी पूरी तरह बागी हो चुकी है। उसे बस यही लगता है कि उसके मांम-बाप उसे उसकी खुशियों से दूर करना चाहते हैं। जिसमें बरखा आग में घी डालने का काम कर रही है।बरखा और अधिक के भड़काने पर पाखी अपनी मां को उल्टा जवाब देकर कपाड़िया हाउस में रुकने की ज़िद करती है। लेकिन अनुपमा बार-बार पाखी को समझाती है कि वो घर चली जाए वरना उसके पापा का गुस्सा वो बर्दाश्त नहीं कर पाएगी। वनराज को जैसे ही पता चला कि पाखी कपाड़िया हाउस में है और वहां रुकना चाहती है। वो गुस्से से लाल हो जाता है। वनराज गुस्से से घर से निकलकर अनुपमा के घर पहुंचता है।वहां जाकर वो हमेशा की तरह बिना अनुपमा की बात सुने उसे जिम्मेदार ठहराता है। फिर पाखी को घर चलने के लिए कहता है। आने वाले एपिसोड में हम देखेंगे कि पाखी वनराज के साथ घर जाने से साफ मना कर देगी। जिसपर वनराज पाखी को धमकी देगा कि अगर आज वो घर नहीं चलेगी तो उसका उसके परिवार से रिश्ता खत्म हो जाएगा। जिसपर अनुपमा पाखी से हाथ जोड़कर विनती करती है कि वो घर चली जाए। पाखी घर तो लौट जाएगी। लेकिन अपने गलत इरादों की एक झलक अपनी मां अनुपमा को दिखा जएगी।

Highlights, Pre Quarter Final SMAT 2021 : क्वार्टर फाइनल में पहुंची विदर्भ, कर्नाटक और केरल की टीम

क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमरोहित शर्मा ने बताया वर्ल्ड कप 2019 का अपना पसंदीदा शतक, कहा 'परिस्थितयां काफी चुनौतीपूर्ण'******भारतीय टीम के उप-कप्तान रोहित शर्मा ने वर्ल्ड कप 2019 में रनों का अंबार लगाकर हर किसी का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया था। इंग्लैंड में खेले गए इस वर्ल्ड कप में रोहित ने कुल 5 शतक लगाए थे और वह इसी के साथ एक वर्ल्ड कप में सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले खिलाड़ी भी बने। इससे पहले ये रिकॉर्ड श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमार संगाकारा के नाम था जिन्होंने वर्ल्ड कप 2015 में 4 शतक लगाए थे। इन्हीं शतकों के साथ रोहित शर्मा ने क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर के रिकॉर्ड की भी बराबरी की थी। सचिन के नाम वर्ल्ड कप में कुल 6 शतक दर्ज है, वहीं अब रोहित के नाम भी इनते ही शतक है।इस टूर्नामेंट में रोहित ने कुल 648 रन बनाए, लेकिन इनमें से उन्होंने साउथ अफ्रीका के खिलाफ ओपनिंग मैच में खेली 122 रनों की पारी को सबसे पसंदीदा बताया।रोहित ने हाल ही में ट्विटर पर अपने फैन्स के साथ सवाल जवाब का एक सत्र रखा था। इस दौरान उन्होंने एक फैन के सवाल का जवाब देते हुए कहा,"विश्व कप में मेरा पसंदीदा शतक पहले मैच में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ था। हालांकि वह टोटल कम था लेकिन परिस्थितयां काफी चुनौतीपूर्ण थीं और उनका गेंदबाजी आक्रमण काफी शानदार था।"भारत ने दक्षिण अफ्रीका को नौ विकेट पर 227 रनों पर सीमित कर दिया। मैच में युजवेंद्र चहल ने चार विकेट लिए थे। वहीं भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह ने दो-दो विकेट लिए थे।भारत को हालांकि इस छोटे से लक्ष्य में भी परेशानी हुई थी। वह लगातार विकेट खो रही थी। रोहित हालांकि एक छोर पर टिके रहे और 144 गेंदों पर 122 रनों की पारी खेल टीम को जीत दिलाने में सफल रहे। रोहित के बाद टीम के लिए महेंद्र सिंह धोनी ने सबसे ज्यादा 34 रन बनाए थे।क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमपीएम मोदी ने दमन-दीव के लिए 1,000 करोड़ रुपये की विकास योजनाओं की शुरुआत की****** प्रधानमंत्री ने आज के लिए 1,000 करोड़ रुपये की विकास योजनाओं की शुरुआत की। साथ ही प्रधानमंत्री ने अहमदाबाद को तटीय शहर दीव से जोड़ने वाली उड़ान योजना का भी उद्घाटन किया। पीएम मोदी ने केंद्र की उड़े देश का आम नागरिक (उड़ान) योजना के तहत एयर ओड़िशा की अहमदाबाद-दीव उड़ान का उद्घाटन करते हुए कहा कि इस हवाई संपर्क से क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। इसी कार्यक्रम में मोदी ने दमन और दीव के बीच हेलिकॉप्टर सेवा की भी शुरुआत की।पीएम मोदी ने कहा कि हवाई संपर्क से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। जो पर्यटक सोमनाथ मंदिर, गिर वन (गुजरात) जाना चाहते हैं, वे दीव से वहां जा सकेंगे। अहमदाबाद से दीव तक सड़क मार्ग से 12 घंटे लगते हैं। विमान से यह दूरी सिर्फ एक घंटे में पूरी की जा सकेगी। मोदी ने कई अन्य परियोजनाओं की भी आधारशिला रखी। इनमें जलशोधन संयंत्र, गैस पाइपलाइन, बिजली सबस्टेशन, म्यूनिसिपल मार्केट और फुट ओवरब्रिज शामिल हैं।प्रधानमंत्री ने कारपोरेट सामाजिक दायित्व (सीएसआर) के तहत बनाए गए बाल रक्षा केंद्र (आंगनवाड़ी) और स्कूलों का भी उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने महिलाओं को ई रिक्शा तथा शारीरिक रूप से अक्षम लोगों को स्कूटर वितरित किए। इससे पहले मोदी सूरत हवाई अड्डे पहुंचे जहां उनका शानदार स्वागत किया गया। मोदी के स्वागत के लिए दमन में सड़क पर बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे।क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमRussia Gave Military Training to Dolphins: रूस ने डॉल्फिन्स को दी मिलिट्री ट्रेनिंग, जंग के बीच जासूस मछलियों को नेवल बेस पर किया तैनात******यूक्रेन से जंग के बीच रूस ने अब डॉल्फिन मछलियों को भी मैदान में उतार दिया है। रूसी सेना ने इन मछलियों को ट्रेनिंग देकर काला सागर के नौसैनिक अड्डों पर निगरानी करने के लिए तैनात किया है। यह खुलासा अमेरिका के यूएस नेवल इंस्टीट्यूट (USNI) ने सैटेलाइट तस्वीरों के जरिए किया है।सेवस्तोपोल बंदरगाह के एंट्री गेट पर डॉल्फिन्स तैनातरिपोर्ट के मुताबिक रूसी नौसेना ने सेवस्तोपोल बंदरगाह के एंट्री गेट पर डॉल्फिन्स को रखा है। सेवस्तोपोल बंदरगाह क्रीमिया पेनिनसुला के दक्षिणी छोर पर है, जिस पर रूस ने 2004 में कब्जा कर लिया था। USNI के सैटेलाइट इमेजरी के एनालिसिस के मुताबिक, फरवरी में यूक्रेन पर अटैक की शुरुआत में रूस ने अपने नेवल बेस पर डॉल्फिन्स की दो बटालियन्स को शिफ्ट किया था।मिलिट्री ट्रेंड डॉल्फिन्स सुरक्षा करने में माहिरजानकारी के मुताबिक, मिलिट्री द्वारा ट्रेन की गईं ये डॉल्फिन्स रूसी नेवल बेस के एंट्री पॉइंट की निगरानी करती हैं। बता दें कि इस पॉइंट से कोई भी जहाज, पनडुब्बी या युद्धपोत रूस में प्रवेश कर सकता है। साथ ही यहां रूस की परमाणु पनडुब्बियां और जंगी जहाज हर पल तैनात रहते हैं, जिस वजह से डॉल्फिन्स की तैनाती और भी जरूरी हो जाती है।डॉल्फिन्स करती हैं दुश्मन को डिटेक्टसोवियत संघ के समय से ही रूसी सेना डॉल्फिन्स को ट्रेनिंग दे रही है। इसके लिए कोल्ड वॉर के दौरान तकनीकें विकसित की गई थीं। डॉल्फिन्स पानी के अंदर दुश्मन टारगेट के साउंड और रेंज को डिटेक्ट कर सकती हैं। रूसी सेना ने ऐसी तकनीक विकसित की है, जिसकी मदद से डॉल्फिन्स की हरकतें सिग्नल में कन्वर्ट हो जाती हैं और सेना को पता चल जाता है।डॉल्फिन्स को प्रशिक्षित करने में यूक्रेन, अमेरिका भी पीछे नहींडॉल्फिन्स को सिर्फ रूसी सेना ही नहीं, बल्कि अमेरिका और यूक्रेन जैसे देशों की सेना भी ट्रेन करती है। सोवियत संघ के दौर में यूक्रेन भी इन मछलियों को सेवस्तोपोल के पास मिलिट्री ट्रेनिंग देता था।2012 में यूक्रेन ने इस प्रोग्राम को बंद कर दिया था, जिसके बाद 2014 में क्रीमिया पर कब्जे के वक्त यूक्रेन की डॉल्फिन्स भी रूस के हाथ लग गई थीं। बाद में यूक्रेन ने कई बार रूस से अपनी डॉल्फिन्स वापस मांगीं, लेकिन उसे कामयाबी हासिल नहीं हुई।वहीं अमेरिका भी डॉल्फिन्स को मिलिट्री ट्रेनिंग देने में पीछे नहीं है। सरकार ने डॉल्फिन्स और समुद्री घोड़ों को ट्रेन करने लिए अब तक करीब 28 मिलियन डॉलर खर्च किए हैं।रूस पहले भी कर चुका है डॉल्फिन्स का इस्तेमालरूस ने सीरियन वॉर के वक्त टर्तुस और सीरिया में बने अपने नेवल बेस पर डॉल्फिन्स का इस्तेमाल किया था। 2018 में रिलीज हुई सैटेलाइट इमेजरी में ये खुलासा हुआ था कि रूस ने सीरियन वॉर के वक्त टर्तुस और सीरिया में बने अपने नेवल बेस पर डॉल्फिन्स का इस्तेमाल किया था।

Highlights, Pre Quarter Final SMAT 2021 : क्वार्टर फाइनल में पहुंची विदर्भ, कर्नाटक और केरल की टीम

क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमCorona Vaccination: भारत ने लगाया कोरोना वैक्सीनेशन का दोहरा शतक, पीएम मोदी ने जताई खुशी******देश में कोरोना वैक्सीनेशन का आंकड़ा 200 करोड़ के पार पहुंच गया है। वैक्सीन डोज की यह संख्या वैक्सीन के पहले, दूसरे और प्रिकॉशन डोज को मिलाकर है। वैक्सीनेशन के मामले में अब केवल चीन हमसे आगे है। चीन ने कुल 341 करोड़ कोरोना डोज लगाए हैं। इनमें 126 करोड़ लोग पूरी तरह वैक्सीनेटेड हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस उपलब्धि को गर्व का क्षण बताया है। वहीं भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने वैक्सीन के 200 करोड़ डोज का आंकड़ा पार करने पर खुशी जताई है। उन्होंने इस बात पर भी सं​तोष जताया कि वैक्सीनेशन की रफ्तार अच्छी रही। नड्डा ने कहा कि आज हमने कोविड वैक्सीन अभियान के तहत 200 करोड़ वैक्सीन की डोज़ पूरी कर ली है, ये बेहद खुशी की बात है। पहले एक वैक्सीन को एक देश तक पहुंचने में 20-30 साल लगते थे, लेकिन पीएम मोदी के नेतृत्व में 9 महीनों में भारतीय वैज्ञानिकों द्वारा सिर्फ 1 नहीं बल्कि 2 वैक्सीन बनाई गईं। यह दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे तेज टीकाकरण अभियान बना रहे हैं।98 फीसदी आबादी को लग गई कम से कम एक खुराकस्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक 98 प्रतिशत वयस्क आबादी को टीके की कम से कम एक खुराक दी जा चुकी है, जबकि 90 प्रतिशत लोगों का पूर्ण टीकाकरण हो चुका है। आंकड़ों के अनुसार, 15-18 वर्ष के बीच के 82 प्रतिशत किशोरों को भी टीके की एक खुराक दी जा चुकी है, जबकि 68 प्रतिशत किशोरों को दोनों खुराकें मिल चुकी हैं। इस आयु वर्ग के लिए टीकाकरण अभियान तीन जनवरी से शुरू हुआ।भारत ने इतिहास रच दिया: पीएम मोदीप्रधानमंत्री मोदी ने इस उपलब्धि पर हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि भारत ने फिर से इतिहास रच दिया है। उन्होंने कहा कि भारत के लोगों ने विज्ञान पर भरोसा दिखाया है और देश के चिकित्सकों, नर्सों, अग्रिम मोर्चे के कर्मियों तथा वैज्ञानिकों ने सुरक्षित पृथ्वी सुनिश्चित करने में अहम भूमिका निभाई है। प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, ‘मैं उनकी भावना और दृढ़ निश्चय की सराहना करता हूं।’ उन्होंने कहा, ‘भारत ने फिर से इतिहास रच दिया। टीके की 200 करोड़ खुराक के विशेष आंकड़े को पार करने के लिए सभी भारतीयों को बधाई। भारत के टीकाकरण अभियान को व्यापक बनाने में अद्वितीय योगदान देने वालों पर गर्व है। इसने कोविड-19 के खिलाफ वैश्विक लड़ाई को मजबूत किया है।’18 महीने पहले शुरू हुआ था वैक्सीनेशन अभियानदेश में जनवरी 2021 में दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू किया गया था। तब से अब तक कुल 18 महीनों में ही भारत ने 200 करोड़ वैक्सीन लगाकर इतिहास रच दिया है। इसके साथ ही भारत कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सबसे सुरक्षित देशों की लिस्ट में शामिल हो गया है।देश में फिर बढ़ रहे कोरोना के मामलेइसी बीच देश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। बीते 24 घंटों में देश में कोरोना के 20,528 नए मामले सामने आए हैं। देश में संक्रमितों की कुल संख्या अब बढ़ कर 4,37,50599 हो गई है। जबकि कोरोना से 24 घंटों में 49 लोगों की मृत्यु हो गई। कोरोना से होने वाली मौतों के आंकड़े अब बढ़ कर 5,25,709 हो गए हैं। जबकि देश में इस वक्त 1,43,449 ऐसे कोरोना संक्रमित हैं। जबकि कोरोना वैक्सीन की बात करें तो देश में कुल 199.98 करोड़ डोज दी जा चुकी है।अकेले दिल्ली में 491 केसराष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कल 24 घंटों में कोविड-19 के 491 नए मामले दर्ज किए गए थे और संक्रमण से दो मरीज़ों की मौत हो गई थी। दिल्ली में संक्रमण दर 3.48 फीसदी रही। स्वास्थ्य विभाग की ओर से शनिवार को जारी बुलेटिन के मुताबिक, इन नए मामलों के साथ ही दिल्ली में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 19,43,517 हो गई, जबकि दो और मरीज़ों की मौत के बाद मृतकों का आंकड़ा 26,291 पर पहुंच गया। बुलेटिन के अनुसार, यह नए मामले पिछले एक दिन में किए गए 14,113 टेस्ट में सामने आए।क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमअरविंद केजरीवाल देंगे पंजाब विधायकों को ‘गुरु मंत्र’,भगवंत मान भी रहेंगे मौजूद******पंजाब : विधानसभा चुनाव में सरकार गठन करने के बाद आम आदमी पार्टी पंजाब में एक अहम बैठक करने जा रही है। इस बैठक में चुने हुए सभी विधायक,मंत्री और सीएम भगवंत मान शामिल होंगे। मोगाली में होने वाली इस मीटिंग का हिस्सा दिल्ली के सीएम और आम के राष्टीय संयोजक अरविंद केजरीवाल भी होंगे। सीएम अरविंद केजरीवाल वर्चुअल माध्यम से अपने इस विधायकों को संबोधित करेंगे’दिल्ली जैसा करिशमा AAP पंजाब में भी दिखाने में कामयाब हुई है। अब बड़ी जिम्मेदारी सीएम भगवंत मान और आप विधायकों के कंधों पर है। आने वाले दिनों में सरकार को कैसे काम करना है, विधायकों की क्या जिम्मेदारी है, जनता के किन मुद्दों को गंभीरता से लेना है ऐसेतमामविषयों पर सीएम अरविंद केजरीवाल विधायकों से चर्चा कर सकते हैं। इसके अलावा सरकार और जनता के बीच कैसे तालमेल बरकार रहे इसका भी मूल मंत्र वो देते हुए नजर आ सकते है।सीएम भगवंत मान ने अपनी नई टीम का चयन कर लिया है। 10 कैबिनेटमंत्रियोंके साथ अब नई सरकार का कामकाज शुरु हो गया है। पंजाब के विधानसभा चुनाव में आप ने 117 में से 92 सीटें जीती थी।

Highlights, Pre Quarter Final SMAT 2021 : क्वार्टर फाइनल में पहुंची विदर्भ, कर्नाटक और केरल की टीम

क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमश्रीलंका में दवा से लेकर माचिस तक की भारी किल्लत, क्या सरकार के कदमों से खत्म होगा आर्थिक संकट******Sri Lankaश्रीलंका फिलहाल भारी आर्थिक संकट से जूझ रहा है। यहां भोजन, दवा, रसोई गैस और अन्य ईंधन, टॉयलेट पेपर और यहां तक ​​​​कि माचिस जैसी आवश्यक वस्तुओं की भारी कमी पैदा हो गई है। श्रीलंकाई लोगों को ईंधन और रसोई गैस खरीदने के लिए दुकानों के बाहर घंटों इंतजार करना पड़ रहा है।श्रीलंका में ऐसे हालात बीते 4 महीनों से हैं। अब जाकर सरकार ने इस संकट से मुकाबला करने के लिए बड़े कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। श्रीलंका की नकदी संकट से जूझ रही सरकार ने बड़ी कंपनियों पर 2.5 प्रतिशत सामाजिक योगदान कर लगाने सहित कई उपायों को मंजूरी दी है। सरकार ने आर्थिक सुधार को सुगम बनाने और ऊर्जा एवं खाद्य संकट को कम करने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के अधिकांश कर्मचारियों के लिए शुक्रवार को अवकाश घोषित किया है।श्रीलंका सरकार के मंत्रिमंडल की सोमवार को हुई बैठक में 12 करोड़ रुपये के सालाना कारोबार वाली कंपनियों पर 2.5 प्रतिशत कर लगाने के विधेयक को मंजूरी दी गई। एक आधिकारिक बयान के अनुसार, 'सामाजिक योगदान उपकर' नाम का नया कर आयात, विनिर्माण, सेवा प्रदाताओं, थोक विक्रेताओं और खुदरा विक्रेताओं के व्यवसायों पर लागू होगामंत्रिमंडल ने मौजूदा ऊर्जा संकट को कम करने के उद्देश्य से एक अन्य उपाय में सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मचारियों के लिए शुक्रवार को अवकाश घोषित करने को भी मंजूरी दी है। हालांकि, यह स्वास्थ्य, बिजली एवं ऊर्जा, शिक्षा और रक्षा क्षेत्रों के कर्मचारियों पर लागू नहीं होगा। मंत्रिमंडल ने खाद्य संकट को कम करने के लिए कृषि में संलग्न होने के लिए सरकारी अधिकारियों को अगले तीन महीनों के लिए प्रति सप्ताह एक दिन की छुट्टी देने को भी मंजूरी दी है।

क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमMarket Cap : BSE की टॉप 7 कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 75,684 करोड़ रुपए घटा, HUL को हुआ सबसे ज्‍यादा नुकसान******Market Cap सेंसेक्स की टॉप 10 कंपनियों में से सात के में बीते सप्ताह 75,684.33 करोड़ रुपए की गिरावट दर्ज की गयी। इस दौरान, हिंदुस्तान यूनिलीवर की बाजार हैसियत सबसे ज्यादा गिरी। मारुति सुजुकी इंडिया, भारतीय स्टेट बैंक और आईटीसी समेत सात प्रमुख कंपनियों के बाजार पूंजीकरण में गिरावट आई जबकि रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल), टीसीएस और इंफोसिस का पूंजीकरण बढ़ा। हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड का मार्केट कैप सबसे अधिक 29,449.99 करोड़ रुपए गिरकर 3,54,774.44 करोड़ रुपए रह गया। इसी प्रकार, एसबीआई का पूंजीकरण 15,171.8 करोड़ रुपए गिरकर 2,60,464.09 करोड़ रुपए और मारुति सुजुकी इंडिया का बाजार पूंजीकरण 11,016.86 करोड़ रुपए गिरकर 2,63,792.92 करोड़ रुपए रहा।आईटीसी का मार्केट कैप 10,702.43 करोड़ गिरकर 3,79,660.86 करोड़ रुपए और कोटक महिंद्रा बैंक का पूंजीकरण 7,130.61 करोड़ गिरकर 2,37,931.73 करोड़ रुपए पर आ गया। एचडीएफसी बैंक का पूंजीकरण 1,194.57 करोड़ रुपए और एचडीएफसी का पूंजीकरण 1,018.07 करोड़ रुपए गिरकर क्रमश: 5,58,693.63 करोड़ रुपए और 3,25,634.13 करोड़ रुपए रहा।वहीं, दूसरी ओर आरआईएल का बाजार पूंजीकरण 22,784.32 करोड़ रुपए बढ़कर 8,09,254.98 करोड़ रुपए हो गया। इंफोसिस का मार्केट कैप 5,734.99 करोड़ रुपए चढ़कर 3,20,258.56 करोड़ रुपए और टीसीएस का बाजार पूंजीकरण 574.29 करोड़ रुपए बढ़कर 7,96,228.78 करोड़ रुपए हो गया।बाजार पूंजीकरण के हिसाब से रिलायंस इंडस्ट्रीज शीर्ष स्थान पर बनी रही। इसके बाद टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, आईटीसी, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एचडीएफसी, इंफोसिस, मारुति सुजुकी, भारतीय स्टेट बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक का स्थान रहा। इस दौरान बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 255.25 अंक यानी 0.66 फीसदी गिरा।क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमRussia Ukraine News: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने यूक्रेन संकट के हल के लिए बातचीत का समर्थन किया******संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने यूक्रेन में जारी संकट के राजनयिक समाधान तलाशने की अपील की है। यहां तक कि रूस के उप विदेश मंत्री ने भी कहा कि सारे प्रयास राजनयिक समाधान तलाशने की दिशा में ही होने चाहिए, लेकिन उन्होंने अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन की उस अपील पर कोई जवाब नहीं दिया कि वह स्पष्ट कहें कि रूस यूक्रेन पर आक्रमण नहीं करेगा। सुरक्षा परिषद की सालाना बैठक रूस ने बुलाई थी और बैठक का मकसद मिंस्क समझौते को लागू कराना तथा पूर्वी यूक्रेन में शांति बहाल करना है।इस स्थान पर रूस समर्थित अलगाववादी 2014 में क्रीमिया पर मॉस्को के हमला के बाद से सरकारी बलों के साथ संघर्ष कर रहे हैं। इस सत्र में वे सभी देश शामिल हुए जो सीमा सुरक्षा संबंधी चिंताओं को लेकर रूस के विरोध में हैं। ब्लिंकन ने सुरक्षा परिषद के सदस्यों से कहा कि वह स्पष्ट कर देना चाहते हैं,‘ मैं यहां आज युद्ध शुरू करने नहीं बल्कि उसे रोकने आया हूं।’ उन्होंने कहा कि अमेरिका को सूचनाएं मिली हैं कि 1,50,000 रूसी सैनिक यूक्रेन के पास मौजूद हैं और ‘वे आने वाले दिनों में यूक्रेन पर हमले की योजना बना रहे हैं।’रूस के उप विदेश मंत्री सर्गेई वर्शिनिन ने परिषद को ब्लिंकन से ठीक पहले संबोधित किया। अपने संबोधन में उन्होंने यूक्रेन की सीमा पर सैनिकों के जमावड़े के संबंध में कुछ नहीं कहा, बल्कि यूक्रेन पर मिंस्क समझौते को लागू नहीं करने का आरोप लगाया। उनके अनुसार यह समझौता,‘पूर्वी यूक्रेन में असैन्य संघर्ष के समाधान का एकमात्र कानूनी उपाय है।’

क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमMahashivratri 2021: महाशिवरात्रि के दिन ऐसे शिवलिंग का जलाभिषेक करने से मिलेगा हर दोषों से छुटकारा****** व्रत के दिन भारत देश में अलग- अलग जगहों पर स्थित बारह ज्योतिर्लिंगों की पूजा का भी विशेष विधान है। कहा जाता है कि महाशिवरात्रि के दिन जो व्यक्ति बेल के पत्तों से शिव जी की पूजा करता है और रात के समय जागकर भगवान के मंत्रों का जप करता है, उसे भगवान शिव आनन्द और मोक्ष प्रदान करते हैं। इस बार महाशिवरात्रि 11 मार्च को पड़ रही हैं।शास्त्रों के अनुसार माना जाता हैं कि महाशिवरात्रि के खास मौके पर भगवान शिव का जलाभिषेक करने से हर प्रकार के दोषों से छुटकारा मिल जाता है। इसके साथ ही भगवान शिव का हमेशा आर्शीवाद बना रहता है। जानिए शिवलिंग पर जलाभिषेक करने का शुभ मुहूर्त, सामग्री और विधि।11 मार्च को रात 11 बजकर 44 मिनट से रात 12 बजकर 33 मिनट तक रहेगा।11 मार्च को दोपहर 2 बजकर 41 मिनट से 12 मार्च दोपहर 3 बजकर 3 मिनट तक।दूध, दही, शहद, घी, चंदन, शक्कर, गंगाजल, बेलपत्र, कनेर, श्वेतार्क, सफेद आखा, धतूरा, कमलगट्टा, पंचामृत, गुलाब, नील कमल, पान, गुड़, दीपक, अगरबत्ती, आदि।सबसे पहले शिवलिंग पर गंगाजल चढ़ाएं। इसके बाद पंचामृत चढ़ाएं। फिर दूध, दही, शहद, घी, शक्कर चढ़ा दें और फिर गंगाजल से स्नान करा कराएं। इसके बाद शिवलिंग में चंदन का लेप, बेलपत्र, कनेर, श्वेतार्क, सफेद आखा, धतूरा, कमलगट्टा, गुलाब, नील कमल , पान आदि चढ़ा दें। जलाभिषेक करते समय भगवान शिव के मंत्र या फिर सिर्फ 'ऊं नम: शिवाय' का जाप करते रहें। इसके बाद दीपक, अगरबत्ती जलाकर कर आरती कर दें। आरती करने के बाद भगवान शिव के सामने अपनी भूल-चूक के लिए माफी भी मांग लें।क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमलगातार 6वें दिन मजबूत हुआ रुपया, डॉलर के मुकाबले 7 पैसे बढ़कर 70.85 पर हुआ बंद******Rupee extends winning run for 6th day against US dollar, gains 7 paiseघरेलू शेयर बाजारों में तेजी और कच्चे तेल के दाम में नरमी के साथ रुपया बुधवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 7 पैसे मजबूत होकर 70.85 पर पहुंच गया। यह लगातार छठा सत्र है जब रुपया मजबूत हुआ है। विदेशी मुद्रा कारोबारियों के अनुसार गुरुवार को जारी होने वाले मुद्रास्फीति तथा औद्योगिक उत्पादन के आंकड़े से पहले में तेजी आई है। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में डॉलर के मुकाबले रुपया 70.87 पर खुला। कारोबार के दौरान घरेलू मुद्रा 70.74 से 70.94 के दायरे में रही। अंत में स्थानीय मुद्रा 7 पेसे मजूत होकर 70.85 पर बंद हुई।रुपया मंगलवार को 70.92 पर बंद हुआ था। मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लि. के विश्लेषक (विदेशी मुद्रा और सर्राफा) गौरंग सोमैया ने कहा कि मुद्रास्फीति और औद्योगिक उत्पादन के आंकड़े आने से पहले अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपए में तेजी बनी रही। ये आंकड़े कल जारी होंगे।ऐसी आशंका है कि ये आंकड़े निराशाजनक हो सकते हैं और इससे मुद्रा की तेजी पर अंकुश लग सकता है। इस बीच, बीएसई सेंसेक्स 172.69 अंक मजबूत होकर 40,412.57 पर, जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 53.35 अंक की तेजी के साथ 11,910 अंक पर बंद हुए।

क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमबड़े काम की हैं ये बिना दांत वाली मछलियां, पैरों को बनाती हैं खूबसूरत, ब्‍लड सर्कुलेशन करती हैं ठीक******Highlightsरोज की भागदौड़ से पैरों की खूबसूरती कहीं गायब सी हो जाती है, जिसे पाने के लिए न जानें हम कौन कौन से तरीकों को अपनाते हैं। आजकर लोग पैरों के सुंदरता को बढ़ाने के लिए फिश पैडिक्योर का सहारा लेते हैं। इसमें पानी में तैरती मछलियां पैरों की बैक्‍टीरिया और डेड स्‍किन खा जाती हैं जिससे पैरों की त्‍वचा पहले से काफी सुंदर हो जाती है।पैडिक्योर के लिए इस्तेमाल की जाने वाली गारा रूफा मछली आपके पैरो कि डेड स्किन को खा जाती है जिसके परिणामस्वरूप आपके पैर फिर सुन्दर और चमकदार दिखने लगते हैं। इन मछलियों के दांत नहीं होते हैं। इन मछलियों को डॉक्टर फिश और निब्बल फिश भी कहा जाता है। यह मछली आपके पैरों की डेड स्किन को निकालने के साथ-साथ आपके ब्लड सर्कुलेशन को भी बढ़ा देती है और आपके शरीर के एक्यूप्रेशर पॉइंट्स को भी उत्तेजित कर देती है जिससे इसका असर तुरंत दिखाई देने लगता है।-फिश पैडिक्योर से आपके पैरों की गंदगी खत्म हो जाती है और आपके पैर सुंदर दिखने लगते हैं।-फिश पैडिक्योर अगर आप कराते हैं तो इससे आपके पैरों की डेड स्किन दूर हो जाती है साथ ही आपको पैर पहले से कही ज्यादा सुंदर और साफ नजर आने लगते हैं।- उस समय हमारे दिमाग से इंडोर्फिन नामक रसायन निकलने लगता है, जिससे हमें एक सुखद एहसास होता है।-फिश पैडिक्योर पैरों को मुलायम बना देता है और साथ ही अगर आपको खुजली और दाग धब्बों की समस्या हौ तो उससे भी आपको छुटकारा मिल सकता है।-इससे शरीर में ब्‍लड सर्कुलेशन भी ठीक हो जाता है।-यह सिरोसिस, मस्‍सा और कॉलयूसिस नामक पैरों की बीमारियों को दूर करती है।-मछलियों के गुदगुदी के एहसास से आप आरामदायक महसूस करते हैं।क्वार्टरफाइनलमेंपहुंचीविदर्भकर्नाटकऔरकेरलकीटीमWest Bengal News: 'बीजेपी को 2024 में सत्ता से बेदखल करना मेरी आखिरी लड़ाई', जानें पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी ने और क्या कहा******Highlights पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बार फिर बीजेपी पर हमला बोला है। उन्होंने सोमवार को कहा कि 2024 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को केंद्र की सत्ता से बेदखल करना उनकी ‘आखिरी लड़ाई’ होगी। तृणमूल कांगेस (टीएमसी) प्रमुख बनर्जी ने एक रैली को संबोधित करते हुए ये बात कही। उन्होंने कहा कि भाजपा को 2024 के लोकसभा चुनावों में हराना है। केंद्र में भाजपा को सत्ता से बाहर करने के लिए दिल्ली की लड़ाई मेरी आखिरी होगी। मैं भाजपा को सत्ता से बेदखल करने का वादा करती हूं।ममता ने कहा कि भाजपा को किसी भी कीमत पर हराना है। पश्चिम बंगाल को बचाना हमारी पहली लड़ाई है। मैं वादा करती हूं कि हम 2024 में केंद्र में भाजपा को सत्ता से हटा देंगे। अगर आप हमें डराने की कोशिश करेंगे, तो हम जवाब देंगे।बनर्जी ने 1984 में 400 से अधिक सीट जीतने के बावजूद 1989 में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के चुनाव हारने का जिक्र करते हुए कहा था कि हर किसी को हार का सामना करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी दिग्गज नेता थीं, लेकिन उन्हें भी हार का सामना करना पड़ा। भाजपा के लगभग 300 सांसद हैं, लेकिन बिहार जा चुका है, कुछ अन्य राज्य भी उसके हाथ से जाएंगे।हालही में ममता ने वीआईपी कल्चर को लेकर किया था अहम फैसलाहालही में ममता ने वीआईपी कल्चर को लेकर बड़ा फैसला किया था। उन्होंने बंगाल सरकार के मंत्रियों को लालबत्ती के इस्‍तेमाल पर रोक लगाने की सलाह दी थी। ममता बनर्जी ने बीते गुरुवार को सरकार के सभी मंत्रियों को इस बात का निर्देश दिया था कि वे हाइवे को छोड़कर राज्य में अन्य कहीं भी लाल बत्ती लगी पायलट कारों का इस्तेमाल बिल्कुल न करें। ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के इन निर्देशों के बाद माना जा रहा है कि दीदी सरकार की छवि सुधारने की कोशिश करने की कोशिश में लगी हैं।बता दें कि पश्चिम बंगाल सरकार के मंत्री रहे पार्थ चटर्जी का नाम टीचर भर्ती घोटाले में सामने आने और बीरभूम जिलाध्यक्ष अनुब्रत मंडल की गिरफ्तारी (Anubrata mondal) जैसे मामलों के कारण ममता सरकार पर विपक्ष को धावा बोलने का मौका मिला है। इस कारण ममता सरकार बैकफुट पर चल रही है।

पिछला:'Laal Singh Chaddha' की स्क्रीनिंग पर Deepika Padukone का बना मज़ाक, यूजर्स बोले - मैडम बालों के साथ क्या किया है?
अगला:सहारा लाइफ मामले में 10 अगस्‍त को सुनवाई करेगा SAT, IRDAI के आदेश को कंपनी ने दी है चुनौती
संबंधित आलेख